adidas kaha ki company hai-एडिडास कहा की कंपनी है

adidas kaha ki company hai-एडिडास कहा की कंपनी है

दोस्तों आज इस लेख में एडिडास किस देश की कंपनी है तथा किस प्रोडक्ट का बिज़नेस करती है इसके बारे में जानने वाले हैं इसके साथ ही इस कम्पनी से जुडी और भी कई सारे इनफार्मेशन को जानेंगे इसलिए आपसे निवेदन है की इस लेख को पूरा जरूर पढ़े ।

आपके जानकारी के लिए बता दू की adidas दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी कम्पनी में शुमार है जो खेल से जुड़े हर तरह के प्रोडक्ट का निर्माण करती है जिसमे जूता मुख्य है और इस मामले में नाइके दुनिये की पहली सबसे बड़ी कम्पनी हैं ।

adidas kis desh ki company hai 

एडिडास एक जर्मनी की कंपनी है जो जूता का निर्माण करने के साथ – साथ घडी , स्पोर्ट्स कपडे , बेल्ट , बैग , आदि का बिज़नेस करती हैं जिसके प्रोडक्ट पुरे दुनिया में बेचे जाते हैं । तो चलिए एडिडास का मालिक कौन है यह भी जान लेते हैं ।

जैसा की हम जान चुके है की एडिडास एक जर्मनी की कंपनी है जिसका मुख्यालय जर्मनी के हरजोनाउराच (Herzogenaurach) में मौजूद है और एडिडास कंपनी की स्थापना साल 1924 , जुलाई महीने में हुई थी ।

adidas ka malik kaun hai 

जब इस कम्पनी का निर्माण किया गया था तब इसका नाम डस्लर ब्रदर्स शू फैक्ट्री  था लेकिन अगस्त 1949 को इसका नाम बदलकर एडिडास रख दिया गया जो आज भी इसी नाम से जाना जाता है । उस समय इसके संस्थापक दो भाई एडोल्फ डैस्लर(Adolf Dassler) और रुडोल्फ डैस्लर (Rudolf Dassler) ने मिलकर किया था ।

1949 आते – आते दोनों भाई में विवाद हुआ जिसके कारण दोनों ने अपना अलग – अलग कम्पनी को संचालित करने लगे जिसमे एक का नाम एडिडास और दूसरे का नाम प्यूमा रख दिया गया था ।

adidas in hindi-(adidas kaha ki company hai-एडिडास कहा की कंपनी है)

एडिडास दुनिया की नाइके के बाद दूसरी सबसे बड़ी कम्पनी है जिसकी सुरुवात एडोल्फ डैस्लर ने साल 1924 को अपने घर से की थी । इसके बाद इनके बड़े भाई रुडोल्फ डैस्लर   इनके बिज़नेस के साथ जुड़ गए और दोनों भाइयों ने मिलकर रनिंग एथलीट सूज बनाने सुरु कर दिए थे ।

adidas-kaha-ki-company-hai-एडिडास-कहा-की-कंपनी-है-1

अभी बस इनके बिक्री की चिंता थी जिसके लिए लिए उन्होंने 1936 ओलम्पिक को चुना जिसमे एक अमेरिकी धावक जेसी ओवेन्स(Jesse Owens) को अपने जुटे इस्तेमाल करने के लिए राजी कर लिया था ।

जो उस साल दौड़ में 4 गोल्ड मैडल जित चुके थे बस फिर क्या था जेसी ओवेन्स(Jesse Owens) के साथ – साथ दोनों भाइयों के स्पोर्ट्स जुटे निर्माण की कन्य भी चल पड़ी और खूब सारे आर्डर भी आने लगे ।

भले ही दो भाई 1949 में अलग हो गए लेकिन उनकी कम्पनी ने आज तक पीछे मुड़कर नहीं देखा अब बात करे एडिडास के लोगो की तो इसका लोगो बहुत की ख़ास है जिसमे तीन लाइन की धारी को दिखाया गया जिसमे लाइन छोटी से बड़ी होती गयी हैं । इस लोगो को साल 1951 को फिनिश खेल कम्पनी कार्हू से खरीद लिया गया था ।

एडिडास का ब्रांड अम्बेसेडर 

वैसे तो आज के समय में यह इतनी बड़ी कम्पनी बन चुकी है की जिसके प्रोडक्ट को सेल्ल करने के लिए किसी तीसरे वयक्ति की जरुरत नहीं पड़ती लेकिन फिर भी यह कम्पनी दुनिया भर में अलग – अलग देशो में अपने अलग ब्रांड अम्बेस्डर रखे हुए है ।

जिसमे एडिडास कंपनी का वर्ल्ड ब्रांड अम्बेस्डर “सोनि बिल विल्लियम्स” है जो पेशे से एक बॉक्सर हैं और यदि भारत की बात करे तो इसका ब्रांड अम्बेस्डर “मानुषी छीलर” है जो साल 2017 में मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीता था जिनका जन्म स्थान हरियाणा हैं ।

एडिडास की मार्किट रणनीति 

1950 के दशक में एडिडास का प्रोडक्ट का डिमांड  तेजी से बढ़ता गया क्योंकि इन्होने अपना रुख एसोसिएशन फ़ुटबॉल (सॉकर) खिलाड़ियों ने कंपनी के जूतों पर स्विच कर लिया था जो वजन में हल्के होने का साथ स्क्रू-इन क्लैट्स थे। कंपनी ने फिर बाद में खेल के सामान की एक श्रृंखला विकसित करना आरम्भ किया और  1963 में सॉकर फ़ुटबॉल की शुरुआत की।

4 वर्ष बाद एडिडास ने परिधान का उत्पादन आरमभ करते हुए  कई वर्षों तक एडिडास एथलेटिक जूतों में सबसे बड़ा नाम था, लेकिन 1970 के दशक के दौरान दूसरी कम्पनी भी मार्किट में आ चुकी थी जिसमे नाइके मुख्य है जो आज शीर्ष पर मौजूद है ।

साल  1978 को एडोल्फ डैस्लर  का  निधन हो गया जिसके उपरान्त एडिडास के बाजार में गिरावट को महसूस किया गया जिसका अंदाजा इन्हे पहले से था जिसके लिए उनोहने  1980 में रैप समूह रन-डीएमसी के साथ सबसे हिट गीत “माई एडिडास” को लांच भी किया लेकिन एडिडास के बाजार गिरने से नहीं बचा सकी।

निष्कर्ष 

दोस्तों आशा करता हु की आपको मेरा यह लेख Adidas belongs to which country पसंद आया होगा और आपके कोई सवाल है तो उसे कनेट में जरूर पूछे जिसका उत्तर जल्द देने का प्रयाश किया जायेगा धन्यवाद ।

Leave a comment