pregnancy 20 weeks in hindi-5 mahine ki pregnancy

pregnancy 20 weeks in hindi-5 mahine ki pregnancy

आज हम इस आर्टिकल में पांच महीने के गर्भवती महिला एवं शिशु के विकाश के बारे में चर्चा करेंगे जिसमे महिला के शरीरिक बदलाव , खान – पान जरुरी टिप्स , एवं शिशु के आकार , उसकी स्थिति आदि शामिल जिसे आपको जरूर पढ़ना चाहिए ।

सांस लेने में दिक्कत 

गर्भावस्था के पांचवे महीने में प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का प्रोडक्शन तेजी से होने लगता हैं जिससे आपका शरीर का वजन बढ़ने लगता हैं । इसलिए किसी भी प्रेग्नेंट महिला को सांस लेने में थोड़ी परेशानी हो सकती है यदि यह ज्यादा हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करे ।

शरीर में दर्द का अनुभव 

इस महीने के दौरान शिशु का अकार एवं वजन  बढ़ता हैं  जिसके वजह से पीठ के निचे दर्द होना एक कॉमन परेशानी हैं । इसके साथ – साथ आपको गैस एवं कब्ज की भी शिकायत हो सकती हैं जिसके कारण सर दर्द हो सकता हैं ।

भूलने की समस्या 

इस महीने प्रेग्नेंसी के दौरान हार्मोन के वजह आपके शरीर में कई तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं जिसके वजह से इसका असर सीधे आपके पर पड़ता हैं जिसके वजह से आपको भूलने की परेशानी हो सकती हैं ।

जिसका असर कम होता हैं या फिर किसी चीज को याद रखने की क्षमता घाट सकती हैं । इसके साथ ही शिशु को पोषण देने के लिए आपके शरीर में खून का निर्माण ज्यादा मात्रा में होता हैं जिसके वजह से पैर में सूजन या दर्द भी हो सकता हैं ।

प्रेगनेंसी की पूर्ण जानकारी प्रेगनेंसी में बीटा होने के लक्षण 

5 वीं महीने गर्भावस्था लक्षण-(pregnancy 20 weeks in hindi-5 mahine ki pregnancy)

  • नाख़ून पर असर 

pregnancy  के 20 सप्ताह में आपके नाख़ून पर बुरा असर पड़ सकता है । जिसके कारण यह कमजोर पड़ जाती हैं और टूटने लगती हैं । लेकिन कुछ मामलो में या  आपने  अपने आप को खान पान में सही से मेकअप किया है तो आपके नाख़ून मजबूत भी हो सकते हैं । यह लक्षण ज्यादातर 21 वे सप्ताह (pregnancy 21 weeks in hindi) में देखने को मिलता हैं

  • मसूड़ों से ब्लड 

pregnency के 18 वीक या फिर 20 वीक तक के अंदर में आपके शरीर में हुए हार्मोन बदलाव के वजह से मसूड़ों से खून का स्राव हो सकता हैं । लेकिन यह लक्षण pregnancy के एक आम लक्षण है

इससे ज्यादा घबराने की जरुरत नहीं हैं । यह समय से ठीक भी हो जाता हैं यदि ऐसा नहीं होता हैं तो निश्चित ही इस समस्या को ठीक करने के लिए अपने डक्टर से संपर्क जरूर करे

  • पीठ दर्द 

18 weeks pregnancy in hindi के दौरान आपके पेट में शिशु का विकाश तेजी के साथ होता हैं जिससे वजन का बढ़ना निश्चित हैं और इसके वजह से आपको पीठ दर्द की परेशानी हो सकती हैं

ज्यादातर मामलो में यह समस्या पुरे pregnancy के दौरान रहता हैं इसलिए यदि आपको यह दिक्कत ज्यादा हो रही है या फिर इसे झेलने में असमर्थ हैं तो आपको डॉक्टर के इस बारे में सलाह जरूर लेना चाहिए

  • सफ़ेद लिक्विड निकलना 

गर्भावस्था का पांचवा महीना  बहुत ही ख़ास होता हैं । क्योंकि पेट में पल रहे बच्चे के शरीर में निरंतर विकास होता रहता हैं जिसका मुख्य वजह आपके हार्मोन में बदलाव का होना हैं और इसी दौरान गर्भवती महिला के योनि से सफ़ेद लिक्विड का स्राव भी हो सकता हैं जो इस अवस्था में निकलना एक आम लक्षण हैं

बच्चे के लिए अच्छा ग्राइप वाटर गर्भ का 3 महीना सिम्पटम्स 

शिशु का विकास pregnancy care in 5th month in hindi

पांचवे महीने में बच्चे का साइज 8 से 12 इंच तक का हो जाता हैं  और वजन 300 से 450 ग्राम तक हो सकता हैं । इस समय उस बच्चे की मांसपेशिया और हड्डिया में विकास का समय होता हैं ।

इस समय बच्चा अपना शरीर को धीरे – धीरे प्रयोग करना सुरु कर देता हैं और अपने सभी अंगों को परखता हैं । जिसमे अंगड़ाई लेना , जम्हाई लेना , आंखे का उपयोग , सुनने की कोशिस , अंगूठा का चूसना आदि जैसी हरकते कर सकता हैं ।pregnancy 18 weeks in hindi

  • शिशु का दिमाग में प्रोग्रेस
  • अगर शिशु लड़की है तो उसके यूटेरस का निर्माण होने लगता हैं
  • अगर शिशु लड़का है तो उसके टेस्टिकल विकसित होते हैं
  • इस समय शिशु के स्किन पर वेसल्स दिखने लगते हैं
  • शिशु के भवे , नाक , कान , दांत , पलक , और नाख़ून बनाने लगते हैं ।
  • हड्डी एवं मांसपेसियों का निर्माण इस समय होता हैं
  • शिशु पेट में लात मरने के साथ चारों तरफ घूम सका हैं
  • बच्चे के छाती में निप्पल दिखने लगते हैं ।
  • इस पांचवे महीने में शिशु का किडनी का भी निर्माण होने लगता हैं
  • शिशु गर्भ में जम्हाई  एवं अंगड़ाई भी ले सकता हैं 
  • बच्चे का चेहरा इस महीने साफ़ दिखाई देने लगता हैं ।
  • इस 22 वीक के दौरान बच्चे के मसूड़ों से दांत निकलने सुरु हो जाते हैं
  • शिशु के फिंगर प्रिंट का निर्माण इसी समय आरम्भ होता  हैं ।

इसलिए इस आर्टिकल के माध्यम से आपसे निवेदन है की इस समय सबसे ज्यादा ध्यान खान पान में लगाए , सही पौस्टिक भोजन को ग्रहण करे , अपने डाइट में फल , जूस , हरे सब्जी अदि को जरूर हामिल करे जिससे आपके शिशु के विकास में कोई बाधा न आने पाए ।

  गर्भ का 4 महीने का लक्षण 

गर्भवती महिला के शारीरिक बदलाव 5 month pregnancy in hindi

pregnancy के 5 महीने में बेबी बम्प दिखना सुरु हो जाता है जिसे देखकर कोई भी पहचान सकता हैं । इस समय आपको भी बहुत सारी सावधानिया रखने की जरुरत पड़ती हैं । इसलिए बच्चे के विकास के साथ आपके शरीर में जो बदलाव होना सुरु होता है उसे निचे बताया गया हैं ।

  •  पेट पर असर 

पेट का साइज बढ़ने के वजह से लिगमेंट में खिचाव या फिर तनाव हो सकता हैं जिसके निशान को पेट में आसानी से देखा जा सकता हैं । यदि आप इससे बचना चाहती है तो डॉक्टर के परमर्श के बाद एक्सरसाइज कर सकती हैं । यदि यह खिचाव ज्यादा हैं तो तुरंत ही डॉक्टर से राय मश्वरा करे और इसका इलाज कराये ।

  • भूख महसूस होना 

पिछले महीने की तुलना में pregnancy के दौरान आपको भूख ज्यादा महसूस हो सकती हैं और खाने वाली वस्तु को लेकर सभी तरह की गर्भवती महिला का सोच एक जैसा नहीं हो सकता है किसी – किसी  को सभी चीजे खाने का इच्छा हो सकता है तो किसी को कुछ चीजे खाने से इंकार भी कर सकती हैं ।

  • हाथ का गर्म रहना 

pregnancy के दौरान आपको शरीर में कमजोरी महसूस हो सकती है जिसका प्रमुख वजह है खून का शरीर में कमी और इस वजह से आपके हाथ हमेशा गर्म रहने जैसा महसूस होता हैं ।

हाथ गर्म होने के साथ इसके ऊपर लाल लकीर भी दिखाई दे सकती हैं जो इस समय होना एक आम बात हैं इसलिए  यह परेशानी यदि ज्यादा है तो अपनर डॉक्टर से इस बारे में जरूर बात करे । जिसके बाद आपको कुछ दवा लेने के सुझाव मिल सकते है जिससे खून की कमी पूरा हो जाता हैं ।

  • बालों में बदलाव 

इस समय एके बाल झड़ने कम हो जायेंगे और मोठे एवं काले दिखने लगते हैं ।

आहार18 week pregnancy in hindi

सच बात यह है की पुरे pregnancy के दौरान आपको खान – पान में विशेष ध्यान देना होता हैं । इसलिए प्रेग्नेंसी के वक़्त किसी भी महिला को किन चीज को खाना है और किसे नहीं खान है इसका विशेष ख्याल रखना जरुरी हैं ।

इस महीने( pregnancy 20 weeks in hindi ) के दौरान डॉक्टर का भी यही कहना होता है की इस समय अपनी लाइफ स्टाइल एवं खान पान में अच्छी तरह ध्यान देना चाहिए ।

क्या खाये 

  • ज्यादा से ज्यादा मात्रा में तरल पदार्थ पिने की कोशिस करना चाहिए
  • प्रोटीन से भरपूर खाद पदार्थ जैसे मछली , अंडा , पनीर , दाल , सोयाबीन आदि को अपने डाइट में शामिल करे
  • खाते समय सलाद का उपयोग करे जिसमे गाजर , टमाटर , खीरा आदि भी शामिल हो
  • फल  में सेव् , केला , संतरा , आदि को जोर सेवन करे
  • साबुत अनाज में ओट्स , चावल , कॉर्न , गेहूं आदि को अपने डाइट में इस्तेमाल का सकते हैं ।

क्या नहीं खाये –(pregnancy 20 weeks in hindi-5 mahine ki pregnancy)

  • जितना हो सके या जंक फ़ूड का सेवन करने से बचे या फिर खान ही छोड़ दे
  • कैफीन का सेवन करना बंद कर दे
  • कोल्ड ड्रिंक को भी पीना बंद करे
  • अन्नानास , अनार एवं कच्चा पपीता को भी खाने से बचे
  • शराब एवं सिगरेट का सेवन नहीं करे
  • कच्चा अंडा या मांस खाने से बचे

यदि आपको इसके अलावा भी और अच्छे विकल्प चाहिए तो या फिर कोई ऐसी वस्तु है जिसे आप खाना पसंद नहीं करती तो उसके विकल्प को पूरा करने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करे और उस विकल्प को परिपूर्ण करे क्योंकि इस समय कोई ढिलाई नहीं बरते ।

सावधानियाfive month pregnancy in hindi

इस समय आपको कई सारी समस्या से निजात मिली होगी और  5 महीने की pregnancy का समय काफी स्थिर समझा जाता हैं । लेकिन अभी भी आपको कुछ सावधानिया बरतने की जरुरत हैं जिसे निचे विस्तार से बताया गया हैं ।

  • जंक फ़ूड या फ़ास्ट फ़ूड बंद करे 

फास्‍ट फूड से बचने की आवश्‍यकता इसलिए है क्‍योंकि इसके सेवन से पेट में गैस बनने की संभावना बढ़ जाती है जिससे जी मिचलाना शुरू हो सकता है। दूसरी इनमें वसा की मात्रा अधिक होती है

जिनसे अनावश्‍यक वजन  बढ़ता हैं तीसरी बात यह है की फास्‍ट फूड एक तरह से  केमिकल और प्रिजरवेटिव युक्त पदार्थ हैं जो आपके साथ-साथ बच्‍चे के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भी बड़ा परेशानी खड़ा कर सकता हैं ।

  • कच्चे मांस या सीए फ़ूड से बचे 

इन्‍हें खाने से आपके शरीर में इन्फेक्शन इन्‍फेक्‍शन हो सकता है और इस समय कोई भी इन्‍फेक्‍शन आपके बच्चे के लिए मुसीबत बन सकता है। इससे अच्छ है की खान ही छोड़ दे ।

  • पालथी मरकर नहीं बैठे

pregnancy में वजन लगातार बढ़ता है इसलिए पालथी मारकर कभी न बैठैं। क्योंकि ऐसा करने से पैरों के निचले भाग  में खून का दौरा जाम हो सकता है जो आपके बच्‍चे के लिए ठीक नहीं है।

  • चाय या कॉफी मत पिए 

चाय एवं कॉफी  में मौजूद  कैफीन pregnancy के दौरान बहुत नुक्सान हो सकता है। इसलिए इसका सेवन करना बंद का दे

  • झटके द्वारा मत उठे 

यदि आप गर्भावस्था में अचानक से  उठती है तो इससे चक्‍कर आ सकते हैं और आप गिर भी सकती हैं इससे अच्छा है  किसी चीज का सहारा लेकर उठें। सोते समय बायीं डिसा का उपयग करे जिससे आपके बच्‍चे को असहज न महसूस हो।

  • पेशाब न रोके 

यूरिनरी ट्रैक्‍ट इन्‍फेक्‍शन होने का डर से बचने के लिए  कभी भी प्रेग्‍नेंसी के समय  यूरिन न रोकें।

व्यायाम ( exercise ) कौनसा करे5th month pregnancy in hindi

वैसे तो व्यायाम करना हर किसी के लिए बहुत जरुरी हैं । यह शरीर को फिट रखने के साथ इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने , मेटाब्लॉसिम की संख्या बढ़ाने ईवा शरीर को हर बीमारी से लड़ने में सक्षम बनाने के लिए कारगार नुस्खा हैं । यदि आपके पास सुबह या शाम में अतिरिक्त समय है तो डॉक्टर से परामर्श के बाद हलके फुल्के एक्सेर्सिस भी कर सकती हैं ।

जैसा की हम सभी जानते हैं है की डिलीवरी के वक़्त ज्यादा परेशानी न होने पाए इसलिए इसमें व्यायाम का रोले बहुत महत्वपूर्ण होता हैं इसलिए कुछ ऐसे एक्सरसाइज है जिसे आप pregnancy के वक़्त आसानी से कर सकती हैं ।

  • पर्वतासन 
  • सुखासन 
  • वर्कासन
  • तितली आसन
  • उतकटासन 

यदि आपको डॉक्टर से आसन करने के परमिसन मिला गया है तो इन सभी आसन को कभी भी अकेले मत करे बल्कि सभी आसन करते वक़्त घर के किसी दूसरे सदस्य को अपने साथ जरूर रखें यदि इसके करने के बाद कोई दिक्कत हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करे ।

निष्कर्ष (pregnancy 20 weeks in hindi-5 mahine ki pregnancy)

आपको मेरा यह आर्टिकल गर्भावस्था का पाँचवा महीना  या 5th month pregnancy care in hindi कैसा लगा हमे कमेंट के माध्यम से बताने की कोशिस जरूर करे और  इससे जुडी कोई सवाल को भी कमेंट में पूछ सकती हैं जिसका उत्तर जल्द से जल्द देने के प्रयाश किये जायेंगे धन्यवाद ।

Leave a comment