pet me ladka hone ke lakshan-garbh mein ladka hone ke lakshan

pet me ladka hone ke lakshan-garbh mein ladka hone ke lakshan

दोस्तों आज हम इस लेख में एक बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक ladka hone ke sanket के बारे में बात करने वाले हैं । वैसे तो पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण  या फिर लड़की होने के लक्षण का को पता करने का एक मात्र तरीका जो है उसका नाम अल्ट्रासाउंड है और इसे ही इस सवाल का जवाब के लिए सबसे सर्वोत्तम माना गया है

मैं आपको आज कुछ घरेलू टिप्स बताने के साथ – साथ पुराने ज़माने में जो दाई माँ प्रेगनेंसी में लड़का होने के लक्षण  या pregnancy me ladka ya ladki नुस्खे आजमाती थी उसके बारे में भी बताऊंगा जिससे आपको पुख्ता तौर पर तो नहीं परन्तु एक अंदाजा हो जायेगा की आगे क्या होने वाला हैं

चाहे घर कोई सा भी हो गरीब हो या फिर आमिर लेकिन जब परिवार में बच्चे के जन्म की खबर आती है तो पुरे घर में एक खुसी की लहार दौड़ पड़ती हैं और उन सभी में आप भी शामिल हैं लेकिन सब सवाल सिर्फ एक ही होते हैं और जब तक बच्चे का जन्म नहीं हो जाता तब तक आपके पेट में लड़का है या लड़की इसका समाधान नहीं निकल पाता है

लेकिन एक आवस्यक सुचना  यह है की भारतीय कानून के नजर में एक अपराध हैं । अथार्त प्रसव पूर्व निदान एवं पूर्व गर्भाधान तकनीक , अधिनियम 1994 भारत में में कन्या भरण हत्या और लिंगानुपात को गिरने से रोकने के लिए , भारत के सांसद में पास एक संघीय कानून है ।

इसलिए इस आर्टिकल में दी गयी सभी जानकारी लोगो के तरह – तरह के मन्यता के आधार पर है इसलिए learnamazon किसी भी लिंग परिक्षण का समर्थन नहीं करता हैं और ना करेगा

प्रेगनेंसी के पहला और दूसरा महीना का लक्षण   तीसरे महीने का लक्षण 

प्रेगनेंसी मे लडका होने के लक्षण -pregnancy mein ladka hone ke lakshan

यदि आप प्रेग्नेंट है तो आप ने भी किसी ना किसी से pregnancy ladka h ya ladki इसके जानने के कई तरिके के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन मैं आपको बता दू की इन सभी का कोई भी वैज्ञानिक आधार नहीं होता हैं । लेकिन इन सभी बातों में कितनी सच्चाई है उसे थोड़ा विस्तार से समझने की कोशिस करते हैं 

  • त्वचा का बदलना 

महिला के गर्भवती होने पर यह बदलाव शुरुआती लक्षण होता है। बच्‍चे का लिंग बताते समय दाई मां भी सबसे पहले उस गर्भवती महिला की स्किन का ही परिक्षण करती हैं

अगर तवचा सूखा जैसा है तो बेटा माना जाता है और यदि ऑयली स्किन हो तो बेटी होगी।इसके साथ ही प्रेग्‍नेंसी के दौरान स्किन पर एक्‍ने हो जाए, तो इसे गर्भ में बेटी होने का संकेत माना जाता है अतः  बेटी होने पर त्वचा पर तेल ज्‍यादा बनता है

  • चेहरा का ग्लो होना 

जब पेट में लड़का हो तब  मां का चेहरा पहले के मुक़ाबले ज्यादा चमकने लगता है इसलिए pregnency  में चेहरे पर चमक आने को प्रेग्‍नेंसी ग्‍लो कहा जाता हैं। अथार्त पुराने जमाने में दाई मां गर्भवती महिला के चेहरे की चमक देखकर ही बता देती थी की आने वाले दिनों में उसे बेटा होगा या बेटी

  • बालो में बदलाव 

बेबी के जेंडर के बारे में पता करने का सबसे आसान तरीका जिसे हर कोई कर सकता हैं और वो बालों का टेक्‍सचर है। यानी की अगर प्रेग्नेंट महिला के बाल घने हो जाएं, तो इसका मतलब लड़का होगा।

वहीं दूसरी तरफ बाल पतले एवं झड़ने लगे तो बेटी के संकेत है। इसी दुराण यदि वजन बढ़ने लगे तब लड़की होगी लेकिन अगर सिर्फ पेट का आकार बढ़ रहा है, तो यह  बेटा होने के तरफ इशारा करता है

प्रेगनेंसी का 4 महीना लक्षण प्रेगनेंसी का 5 महीना लक्षण 
  • पैरो का साइज और तापमान 

बाकी दिनों की तुलना में और  प्रेग्‍नेंसी में आपके पैर पहले के मुक़ाबले ज्‍यादा ठंडे हो रहे हैं, तो दाई माँ गर्भावस्था के दौरान लड़के के लक्षण  को सही मानती है । वहीं पैरों के तापमान में कोई बदलाव नहीं होने पर बेटी होगी।

वहीँ दूसरी तरफ यदि पैरों के साइज में बदलाव आने का संबंध भी बेबी के जेंडर को दर्शाता है। अगर पैर का आकार लगभग दोगुना हो जाए, तो इसे लड़का होने के तरफ इशारा करता है वहीं अगर पैर में कोई बदलाव न आए तो बेटी होगी।

  • सर दर्द 

दादी माँ के अनुसार जिन महिलाओं में सिरदर्दको थोड़ी देर के लिए हो, तो य‍ह बेटे होने का संकेत माना जाता है। किसी भी गभ्वती महिला की स्‍लीपिंग पोजीशन से भी लड़का या लड़की का जेंडर पता चल सकता है। यदि प्रेगनेंट महिला दाईं करवट लेकर सोती है, तो बेटा होगा एवं बाईं करवट लेटती है तो बेटी होगी।

आपको मैं फिर से एक बार कहना चाहता हूँ की भारत में जन्‍म से पहले बच्‍चे के लिंग के बारे में बताना गैर कानूनी है इसलिए प्रेग्‍नेंसी के दौरान शरीर में होने वाले इस तरह के  लक्षणों एवं बदलावों के आधार पर किसी भी गर्भवती महिला के पेट में पल रहे बच्चे  के लिंग का पता लगाने की बात को विज्ञान भी सहमति नहीं देता है।

वैज्ञानिकों का साफ़ तौर पर यह कहना है कि इस बात का कोई प्रमाण और सबूत नहीं है जिससे कि इन संकेतों से जाना जाए कि पेट में बेटा है या बेटी। ऊपर बताई गयी सभी बाते  सुनी-सुनाई हैं और इनका कोई वैज्ञानिक आधार भी नहीं है।

ग्राइप वाटर बच्चे के लिए फायदेमंद 
  • बेबी बम्प का अकार 

ऐसा माना जाता है की लड़के कवजान लड़की के वजन से ज्यादा होता हैं । इसलिए यदि गर्भवती महिला का वजन निचे की तरफ ज्यादा झुका हुआ मालुम पड़े तो लड़के होने के संकेत को दर्शाता हैं

वही दूसरी तरफ यदि गर्भवती महिला का पेट आगे की तरफ ज्यादा निकला हुआ दीखता हैं तब इस अवस्था में पेट में लड़की होने के ज्यादा संभावना रहती हैं ।

  • स्तन का साइज 

यह वैज्ञानिक प्रमाण है की गर्भवती महिला के शरीर में हार्मोन के स्तर में बदलाव के वजह से बहुत सारे परिवर्तन देखने को मिलते हैं और उन सभी बदलाव में स्तन का बदलाव का भी प्रमुख स्थान होता हैं ।

इसलिए बच्चे को जन्म देने से पहले उसके खुराक के लिए स्तन के साइज में परिवर्तन हो आम बात हैं इसलिए इसका अकार बढ़ता हैं लेकिन दोनों स्तन का साइज में थोड़ा बहुत फर्क होता हैं ।

यदि दाया स्तन बाया स्तन से साइज में बड़ा हो और साथ में उसमे भारीपन भी हो एवं दाए वाले स्तन के निप्पल का साइज भी ज्यादा काला हो तो यह लक्षण गर्भ में लड़के होने के संकेत को दर्शाता हैं ।

  • पेट की निचे रेखाएं 

गर्भावस्था में कुछ महिला के पेट के निचे गहरी रेखाएं होती हैं जीने लाइनिया निग्रा के नाम से जाना जाता हैं । इसलिए ऐसा माना जाता है की जब यह रेखा पेट के निचे की तरफ फैलती है तब लड़के होने के ज्यादा चांस होते हैं । यदि रेखाएं टूटती है तब भी इसी के संकेत हो सकते हैं ।

  • चटपटा खाना 

फ़ूड क्रेविंग का होने और वो भी गर्भावस्था के समय में एक आम बात हैं और इस दौरान महिला के स्वाद में काफी बदलाव आते हैं । लेकिन स्वाद दो तरह के हो सकते हैं जहाँ कुछ महिला कहता खाने की इच्छा जाहिर कर सकती हैं वहीँ दूसरी तरफ कुछ महिला मीठे खाने के संकेत दे सकती हैं ।

यहाँ आपको यह समझना होगा की सभी महिला जो गर्भवती हैं वे केवल खट्टे को ही पसंद करे ऐसा बिलकुल नहीं हैं । इसलिए ऐसा कहा जाता है की जिस महिला को गर्भ के दौरान खट्टे खाने की इच्छा होती हैं उन्हें आगे चलकर लड़के होने के चांस सबसे ज्यादा होती हैं ।

  • शिशु का दिल 

गर्भ में गड़ना के अनुसार यदि शिशु के धड़कन 140 हो यानी की बच्चे का दिल एक मिनट में 140 बार धड़कता हो तब इस स्थिति में लकड़ी होने का संकेत हो सकता है

क्योंकि विज्ञान के अनुसार लड़के का दिल एक मिनट में लड़की के मुक़ाबले कम धड़कता हैं ।यदि गर्भावस्था में बची की डहडकं एक मिनट में 140 बार से कम धड़क रही हैं तो लड़का होने का संकेत को दर्शाता हैं ।

  • मूत्र का रंग 

गर्भावस्था के समय में पेशाब का रंग में बदलाव आना आम बात हैं इसलिए इसके कलर के पहचान के भी पेट में लड़का है या फिर लड़की इसका पता लगाया जा सकता हैं ।

यदि गर्भवती महिला का पेशाब ज्यादा पीला हो तो उसे लड़का होने का संकेत माना जाता हैं और वहीँ दूसरी तरफ यदि उस महिला का पेशाब हल्का पीला रंग का हो तो उसे लड़की होने के संकेत माने जाते हैं ।

  • बैकिंग सोडा टेस्ट 

मीठा सोडा या फिर बैकिंग सोडा से भी शिशु के लिंग के बारे में पता लगाया जा सकता हैं । इसके लिए उपाय के तौर पर गर्भवती महिला के सुबह के पहले मूत्र में इस सोडा की एक चम्मच जितना थोड़ी मात्रा डालनी पड़ती हैं ।

इसके बाद यदि मूत्र में सोडा डालने के बाद उसमे से झाग बनाना चालु हो जाता हैं तब पेट में लड़की होने के संकेत हो सकते हैं यदि सोडा डालने के बाद किसी भी तरह कोई परिवर्तन होता नहीं दीखता हैं तब लड़का होने का चांस बन सकता हैं ।

  • मॉर्निंग सिकनेस 

गर्भ के दौरान किसी महिला को सुबह के समय जी मिचलाने या मॉर्निंग सिकनेस होना एक आम बात है लेकिन यह जी मिचलाना सभी महिला में अलग – अलग हो सकते हैं ।

इस अवस्था में भी पेट में बेटी है बेटा इसका भी पता लगाया जा सकता हैं । जैसा की मान लीजिये की किसी गर्भवती महिला को सुबह के समय जी मिचलाने की शिकायत कम है तो लड़का होने के सबसे अच्छे संकेत हो सकते हैं ।

  • वजन का उतार चढ़ाव 

प्रेग्नेंसी के समय किसी भी महिला का वजन कम या ज्यादा होता रहता हैं । इसलिए गर्भ में बच्चे के बढ़ने के साथ महिला का वजन भी बढ़ना जरुरी है । कभी – कभी कोई दूसरे दिक्कत के वजह से गर्भवती महिला का वजन घट भी सकता हैं ।

ऐसा माना जाता हैं की प्रेग्नेंसी के दौरान महिला के वजन के घटते और बढ़ते रहने के वजह से लड़का होने के तरफ इशारा करता हैं । अथार्त यदि महिला का वजन लगातार बढ़ा रहा है तो लड़का होने की संभावना बढ़ जाती हैं ।

FAQS-प्रेगनेंसी में लड़का होने के लक्षण बताइए

अब मैं आपको कुछ घरेलु तरिके की सच्चाई बताने जा रहा हूँ जिसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है । लेकिन यह सभी धारणा सदियों से चली आ रही जो पुख्ता तौर पर यह सिद्ध नहीं करती की गर्भवती महिला को लड़का होगा या फिर लड़की ।

Q – क्या मॉर्निंग सिकनेस से लड़का होने का पता लग सकता है ?

A – 80 फीसदी प्रेग्नेंट महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस होती ही है और खासकर पहली तिमाही में सबसे ज्‍यादा होती है लेकिन कुछ महिलाओं को यह समस्या डिलीवरी तक रहती है। ऐसा माना जाता है कि गर्भवती महिल के शरीर में हार्मोनल बदलाव के कारण मॉर्निंग सिकनेस होती है और इसका शिशु के लिंग से कोई संबंध नहीं होता  है।

Q – गर्भवती महिला के बच्चे की हार्ट रेट की सच्चाई क्या हैं ?

A –  एक अध्‍ययन के अनुसार पहली तिमाही में लड़के और लड़की के हार्ट रेट में कोई अंतर नहीं होता है। भ्रूण की नार्मल हार्ट रेट 120 से 160 बीपीएम होती है जबकि प्रेग्‍नेंसी के शुरुआती चरण में हेरात रेट 140 से 160 बीपीएम एवं आखिरी चरण में 120 से 140 बीपीएम तक जा सकती है।

Q – बाल एवं त्वचा से बच्चे के लिंग का पता लगाना ?

A – ऐसा कहा जाता हैं कि अगर पेट में बेटा हो तो स्किन पर मुहांसे नहीं आते जबकि लड़की होने पर गर्भवती महिला का स्किन खराब हो जाता है। वहीं लड़का होने पर बाल भी घने और सुंदर रहते हैं ।

आपको मैं इसका मुख्य वजह बता दू की हार्मोन के स्‍तर में बदलाव के कारण बालों और त्‍वचा में बदलाव आता है। यही वजह है की हार्मोनल बदलाव के कारण स्किन साफ और बाल सुंदर हो जाते हैं।

Q – लगातार कुछ खाने का मन करना – (pet me ladka hone ke lakshan-garbh mein ladka hone ke lakshan)

A – ऐसी धारणा प्रचलित है की खट्टी या नमकीन चीजें खाने की इच्‍छा हो तो इसका मतलब है कि गर्भ में बेटा है लेकिन इस बात को साबित करने के लिए कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।

हार्मोन के बदलाव या फिर पोषण की कमी के कारण भी फ़ूड क्रेविंग हो सकती है। इसमें सांस्‍कृतिक और मनोसामाजिक कारक के भी अहम भूमिका हैं। हालांकि, अभी तक इस बात की पुष्टि के लिए कोई पर्याप्‍त अध्‍ययन नहीं हुए हैं ।

Q – गर्भवती महिला के मुंड का चेंज होना 

A – वैसे तो सभी गर्भवती महिला को मूड स्विंग्‍स होते हैं और इससे शिशु के लिंग का कोई संबंध नहीं है। वैसे आपको बता दें कि सभी महिला की प्रेग्‍नेंसी में होने वाले शारीरिक लक्षण अलग होते  है, लेकिन गर्भावस्‍था में होने वाले आम लक्षण हर प्रेगनेंट महिला में देखे जाते हैं।

Q – बेबी पोजीशन की सच्चाई 

A – वैसे धारणा है की गर्भवती महिला के पेट का निचे की तरफ झुकना लड़का होने के निशान है जबकि जरनल बर्थ में प्रकाशित रिसर्च एवं स्‍टडी के अनुसार बेबी बंप से शिशु के लिंग का पता असंभव है बल्कि बेबी बंप की पोजीशन शिशु और गर्भाशय के आकर से संबंधित हो सकती है।

निष्कर्ष (pet me ladka hone ke lakshan-garbh mein ladka hone ke lakshan)

आपको मेरा यह आर्टिकल garbh me ladka hone ke lakshan या pregnancy mein ladka hone ke lakshan या 3 महीने गर्भावस्था लड़का लक्षण  कैसा लगा हमे कमेंट के माध्यम से जरूर बताये यदि आपके कोई सवाल है जो pregnancy mai ladka hone ke lakshan या pregnancy me ladka hone ke sanket से जुड़े है तो उन्हें भी पूछ सकते हैं जिसका उत्तर जल्द देने की कोशिस किये जायेंगे धन्यवाद ।

Leave a comment