stan cancer ke lakshan in hindi-breast cancer symptoms in hindi

stan cancer ke lakshan in hindi-breast cancer kaise hota hai

आज इस आर्टिकल में महिलाये से जुडी सबसे बड़ी बिमारी ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण हिंदी में  या ब्रेस्ट कैंसर कैसे होता है  के बारे में जानने वाले हैं जिसमे लक्षण , ट्रीटमेंट , और इस ब्रैस्ट कैंसर से  कैसे बचा जाए इसके ऊपर चर्चा करनेवाला हूँ ।

वैसे तो इस बिमारी को C के द्वारा प्रदर्शित किया जाता हैं और यह एक ऐसा शब्द है जो पुरे दुनिया भर में सबसे ज्यादा चिंता का इसे बन चूका हैं । मुख्य रूप से महिलाओ के लिए यह सबसे बड़ी परेशानी हैं । महिलाओ में इस बिमारी का पता देर से लगने पर मित्यु दर बढ़ रही है ।

इसके होने के मुख्य वजह जिन में  म्यूटेशन के हो जाने से स्तन में मौजूद कोशिकाएं की अनियंत्रित विधि होने लगती हैं । who द्वारा पुरे दुनिया भर से इकठ्ठा किये गए आकङो के मुताबिक यह महिलाये में होने वाले बीमारी का एक साधारण रूप है ।

ज्यादा मामले आने के वजह से इसपर ध्यान देने की जरुरत है क्योंकि विश्व के मध्य पूर्व में मामलों की दर कम होने के बावजूद भी अन्य हिस्सों की तुलना में जीवित रहने की दर कम है ।

इससे बचने के लिए शुरुआती पहचान और जागरूकता के वजह से मित्यु दर को कम करने के मुख्य कारणों के रूप में देखा गया है। यह समस्या विकासशील देशों में बढ़ती मामले के साथ और भी मुश्किल हो गया है।

  • स्तन कैंसर क्या है ?

स्तन कैंसर एक प्रकार से स्तन कोशिकाओं की अनियंत्रित बढ़ोतरी है जो लोब्यूल्स और दुग्ध नलिकाओं में घुसकर, वे स्वस्थ कोशिकाओं पर आक्रमण करते हैं और शरीर के अन्य भागों में फैल जाते हैं। कुछ तो स्तन कैंसर स्तन के अन्य ऊतकों को भी प्रभावित कर सकता है।

ब्रेस्ट कैंसर की पहचान-(ब्रेस्ट कैंसर सिम्पटम्स)

ब्रैस्ट कैंसर कैसे होता है इसका मुख्य वजह अभी भी पता नहीं चल सका हैं लेकिन कुछ जोखिम भरे आदते के वजह से इस बिमारी को पैदा होने का खतरा बन जाता हैं । इसलिए उन आदतों को छोड़कर इस बिमारी को आने से पहले रोका जा सकता हैं ।

symptoms of breast cancer in hindi

  • रेडिएशन जोखिम 

एक अलग कैंसर की जाँच के लिए कीमोथेरेपी से गुजरना और जीवन में आने वाले दिन या साल में स्तन कैंसर के जोखिम को बढ़ा सकता है ।

  • हार्मोन उपचार 

NCI का अध्यन के अनुसार , महिलाये द्वारा निरंतर गर्भनिरोधक दवा के सेवन से ब्रैस्ट कैंसर का खतरा बढ़ जाता हैं ।

  • शराब का सेवन 

नियमित रूप से शराब का पीना और उसके ज्यादा उपयोग करना breast cancer के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं । national cancer institute ( nci ) के द्वारा एक अध्यन यह बात साबित हो चूका है की जो महिलाये सराब का सेवन रोजाना करती हैं उनको किसी आप महिला के मुक़ाबले स्तन कैंसर का खतरा ज्यादा होता है ।

  • शरीर का वजन 

अधिक वजन वाली महिलाये में एस्ट्रोजेन का स्टार हाई होता ही जिसके वजह से उनको ब्रैस्ट कैंसर का खतरा ज्यादा होता है ।

  • घने ब्रैस्ट वाली महिला 

अत्यधिक घने स्तन वाली महिला को बहुत ज्यादा सतर्क रहना चाहिए क्योंकि वह स्तन कैंसर के बिलकुल करीब होती हैं जिससे कम स्तन वाली महिल की तुलना इन्हे खतरा ज्यादा होता है ।

  • उम्र 

चाहे कोई भी महिला हो जैसे – जैसे उसकी उम्र बढ़ती है वैसे – वैसे ब्रैस्ट कैंसर का खतरा भी बढ़ता चला जाता है ।

यह सब महत्वपूर्ण तथ्य है जो ब्रैस्ट कैंसर का कारण बन सकते है और इसके अलावा भी बहुत से ऐसे वजह है जैसे,  BRCA1, BRCA2 और P53 जैसे जीनों में म्यूटेशन , देर से रजोनिवृत्ति , समय से पहले पहला मासिक धर्म आदि ।

ब्रेस्ट कैंसर का लक्षण-breast cancer ke lakshan-(stan cancer ke lakshan in hindi)

मुख्य रूप से ब्रैस्ट कैंसर को 9 चरण में विभाजित्त किया गया है जिसमे 0, IA, IB, IIA, IIB, IIIA, IIIB, IIIC और चरण IV  शामिल है और इसमें हर एक चरण इसके फैलाव को दर्शाता है । एक बात और बता दू की इसका अंतिम चरण बहुत ही खतरनाक है जिसमे जिन्दा रहने की उम्मीद बहुत कम होती है ।

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण हिंदी में

  • स्तन में गांठ 

ब्रैस्ट कैंसर के सुरुवाती मामले में यह सबसे पहला लक्षण हो सकता है इसलिए स्तन के किसी भी हिस्से में निकले गांठ की जाँच करानी चाहिए चाहे वो कोमल गांठ ही क्यों न हो ।

  • स्तन के पुरे हिस्से में सूजन 

ब्रैस्ट के एक हिस्से में सूजन आय फिर पुरे हिस्से में दर्द किसी तरह कोई बिमारी का संकेत हो सकता है जिसमे कैंसर के सुरुवाती लक्षण भी शामिल है । हालाँकि यह गर्भावस्था में भी हो सकता है परन्तु स्तन की त्वचा में जलन , छोटे गांठ जैसे अन्य लक्षण है इसका पता लगान बहुत जरुरी हैं ।

खुद से की गयी स्तन जाँच किसी दूसरे परिक्षण के मुक़ाबले ज्यादा सेफ्टी है क्योंकि इससे पता चल जाता है और आगे इसकी जाँच करानी है या है इसका भी अंदाजा भली भांति लग जाता है और थोड़ा सा भी असमंजस होने पर महिला को तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए

  • स्तन का साइज में परिवर्तन 

1 ) जलन और त्वचा का लाल होना

2 ) ब्रैस्ट स्किन का मोटा होना

4 ) स्तन में मौजूद  उत्तक में डिपलिंग होना

5 ) ब्रैस्ट की त्वचा की बनावट में बदलाव

6 ) दोनों या एक के स्तन के निप्पल में दाने

7 ) निप्पल्स का उल्टा हो जाना

treatment of breast cancer in hindi

स्तन कैंसर सर्जरी स्तन कैंसर प्रसंस्करण प्रक्रिया का एक महत्वपूर्ण घटक है। इसका उपयोग छाती की ट्यूमर या कैंसर कोशिकाओं को खत्म करने के लिए किया जाता है।

इसके अलावा, यदि कैंसर कोशिकाएं आगे फैल गई हैं, तो लिम्फैटिक नोड उत्तक को भी समाप्त किया जा सकता है। यह प्रक्रिया रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी के साथ भी हो सकती है। इस कैंसर 30 वर्ष वाली  वाली महिला में होना सामान्य बात है

जिसमें द्रव्यमान को एक्स-रे प्रक्रिया के साथ इलाज किया जाता है, इसे रेडियोथेरेपी कहा जाता है। यद्यपि स्तन कैंसर की सर्जरी विभिन्न दृष्टिकोणों के माध्यम से की जाती है, यद्यपि, पूरी छाती (मार्टेक्टोमी) को हटा दें, या छाती के एक हिस्से या भाग को जरुरत के मुताबिक हटाने के आधार पर किया जाता है ।

Breast Cancer Surgery in Hindi-(stan cancer ke lakshan in hindi)

अब सवाल है की आखिर ब्रैस्ट कैंसर सर्जरी क्यों की जाती है ? जब कैंसर अपने अंतिम चरण में पहुंच जाता हैं तब सुगरय के अलावा कोई दूसरा विकल्प मौजूद नहीं है । यदि चिकित्सा या इलाज के द्वारा दवा का असर काम नहीं करे तब आपको डॉक्टर इसके सर्जरी करने का विकल्प देते हैं जिससे इस समस्या से झुज रहे पीड़ित को स्तन के उत्तक को हटाकर बचाया जा सके ।

  • ब्रैस्ट सर्जरी कैसे की जाती है ? ( How is Breast Cancer Surgery is performed in Hindi ) 

सर्जरी के ठीक पहले डॉक्टर पहले पीड़ित के शरीर का परीक्षण करता है जिससे यह पता लगाया जा सके की उसके अंदर कैंसर की उपस्थिति है भी या नहीं । यह निर्धारित करने के बाद कुछ अन्य परीक्षण भी किये जाते हैं

क्योंकि केवल शरीर का चेकअप काफी नहीं होता है । और जो जाँच किये जाते है उसे निचे बताया गया है और यह सर्जरी दो प्रकार की होती हैं ।

  • मैमोग्राम 

यह एक प्रकार से स्तन का एक्सरे होता है जो कैंसर का पता जल्द से जल्द लगा सकता है ।

  • ब्रैस्ट का अल्ट्रासाउंड 

यदि मेमोग्राम के चेकअप के बाद भी कोई रिजल्ट नहीं निकलती है तो उल्ट्रासॉन किया जाता है जिससे यह पता चलता है की पीड़ित के स्तन में कोई गांठ , द्रव्य भरा पूठि या फिर कोई ठोस द्रव्यमान है की नहीं ।

  • ब्रेस्ट बायोप्सी

इस चेकअप से कैंसर की उपस्थिति की पुस्टि की जाती है । इसके चेकअप के बाद यह निर्णय लिया जा सकता है की स्तन में मौजूद घाव कैंसर के लिए है या फिर नार्मल जख्म है ।

वैसे यह नियम है की स्तन कैंसर की सर्जरी तभी की जाती है जब वह फैलने के कगार पर हो । सर्जरी के पहले कैंसर के साइज को छोटा करने के लिए इलाज किया जाता है और स्तन कैंसर का इलाज सर्जरी , विकिरण एवं कीमोथेरेपी से किया जाता है । ज्यादातर मामलों में कैंसर से शरीर को छुटकारा दिलाने के लिए सीधे सर्जरी की सलाह दी जाती है ।

इलाज का दूसरा तरीका –(stan cancer ke lakshan in hindi)

  • स्तन सरक्षण सर्जरी ( lumpectomy )

इसे लेम्पेक्टॉमी, आंशिक मास्टेक्टॉमी, सेग्मल मास्टेक्टॉमी और क्वाड्रंटेक्टॉमी के नाम से भी जाना जाता है। इस तरह के इलाज में केवल स्तन का एक भाग को हटा दिया जाता है और कुछ के इलाज में उत्तक और ट्यूमर के बारीकियों को परखकर उसे हटाया जाता है ।

  • मस्टेक्टॉमी ( mastectomy ) 

इस इलाज में दोनों स्तन को हटाने का निर्णय किया जाता है और यह तभी किया जाता है जब स्तन में ट्यूमर बहुत बड़े क्षेत्र को कवर कर चूका होता है  या फिर स्तन के कई हिस्से में ट्यूमर की मौजूदगी होती है ।

ब्रैस्ट कैंसर सर्जरी के बाद देखभाल 

  • घाव के पट्टी को रोज बदलते रहे
  • सर्जरी के बाद टांको को हटाने के लिए दो सप्ताह बाद हॉस्पिटल जाना अनिवार्य है और यदि कोई शरीर में चिपचिपा पदार्थ लगा है तो वो अपने आप घुल जाता है
  •  घाव को साफ़ और सूखा रखना बहुत जरुरी है
  • घाव को साबुन वाले पानी से साफ़ करना चाहिए और इसे रगड़ने की भूल कभी न करे
  • वेस्ट ट्रेनिंग पाइप के निकलने के बाद ही आप अच्छी तरह से स्नान करने के बारे में सोंचे
  • घाव ठीक होने के बाद डॉक्टर से जरूर राय ले की अब पट्टी की जरूर है या नहीं है और कोई सामान्य ब्रा का उपयोग किया जा सकता है की नहीं

स्तन कैंसर सर्जरी का बाद आनेवाली परेशानी 

  • संक्रमण होने का खतरा
  • बाह हिलाने में परेशानी
  • आर्म और कंधो में दर्द और अकड़न का होना
  • बाह के रफ लसिका ग्रंथि निकलने के वजह से भारीपन का महसूस होना
  • कुछ मामले में पूरा इम्प्लांट खराब हो सकता है जिससे फिर से सर्जरी करानी पद सकती है

ब्रैस्ट कैंसर सर्जरी में होनेवाला खर्च 

भारत में ब्रैस्ट सर्जरी कराने के कुल खर्च 2 लाख से लेकर 4 लाख रूपए तक हो सकता हैं । हालाँकि भारत में ऐसे बहुत से अस्पताल है जो ब्रैस्ट कैंसर को सर्जरी द्वारा ठीक कर सकते हैं लेकिन इनसभी का खर्चा अलग – अलग हो सकता हैं ।

यदि आप इसका इलाज विदेश में कराना चाहते है तो आपके सर्जरी के खर्चा के अलावा वहां रहने , खाने , और आने जाने का खर्च भी जोड़ने पड़ेंगे इसके अलावा मरीज को कम से कम 14 दिन तक रिकवरी के लिए रखा जाता है यदि इन सभी खर्चे को जोड़ा जाए तो 2.5 लाख रूपए तक लग सकते है ।

ब्रेस्ट कैंसर के आयुर्वेदिक उपचार

वैसे तो बिना ऑपरेशन ब्रेस्ट कैंसर का इलाज  है ही नहीं क्योंकि इसके लिए दवा और ऑपरेशन दोनों की जरुरत पड़ती है फिर भी सुरुवाती दौर में आयुर्वेदिक के द्वारा इसे ठीक किया जा सकता हैं ।

ब्रैस्ट कैंसर से छुटकारा पाने के घरेलु नुस्खे /ब्रेस्ट कैंसर से बचने के उपाय

  • प्रतेक दिन अंगूर या अनार का जूस पिने से कैंसर से बचा जा सकता है
  • हर दिन लहसुन का सेवन करने से ब्रैस्ट कैंसर जैसी गंभीर रोग को रोका जा सकता हैं
  • नमक , सोंठ , शमी , मूली , सरसो और सहजन के बीज को सामान मात्रा में पीस ले और खट्टे छाछ में मिलाकर स्तन में लेप करे । एक घंटे के बाद नमक की पोटली से सेंके
  • पोइ के पत्ते को पिशकर पिंड बनाकर लेप करे तथा पत्तो को अच्छी तरह से ढककर कुछ दिन रखने पर सुरुवाती अवस्था का स्तन कैंसर ठीक हो जाता है
  • एक ग्लास पानी में हर्बल टी को आधे होने तक उबाले और उसे चाय की तरह पि जाए

ब्रैस्ट कैंसर होने पर किन चीजों से परहेज करे 

  • जिस महिला को स्तन कैंसर की बिमारी है उनसे ज्यादा हाथ हिलाने वाले काम नहीं कराने चाहिए
  • खाने के समय आहार में मूंगफली , गेहूं, फल एवं इनके रस, दूध, दूध, पनीर का दलिया, हरी सब्ज़ी आदि का सेवन करना चाहिए
  • पीड़ित को चाय , सिग्टरेट , पान , शराब , कॉफ़ी आदि बंद कर देने चाहिए
  • मांस, सेम, अंडे, मसूर,  उड़दआदि के सेवन नहीं करना चाहिए

निष्कर्ष (stan cancer ke lakshan in hindi)

आपको मेरा यह आर्टिकल breast cancer hindi या breast cancer in hindi या ब्रैस्ट कैंसर की जानकारी  या ब्रेस्ट कैंसर के कारण कैसी लगी हमे कमेंट के माध्यम से जरूर बताये और किसी दूसरे इसे के बारे में जानने के लिए हमसे सवाल भी पूछ सकते है जिसका जवाब जल्द देने के प्रयाश किये जायेंगे धन्यवाद

Leave a comment