व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग-swing trading strategies in hindi pdf

व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग – what is swing trading in hindi 

आज मैं आपको इस आर्टिकल में शेयर मार्किट से सम्बंधित स्विंग ट्रेडिंग के बारे में बताने वाला हूँ जिसमे लोग आज के समय में इन्वेस्ट करके लाखों रूपए कमा रहे हैं ।यह शेयर मार्किट का इन्वेस्ट करने के नजरिये से सबसे सुरक्षित तरीका माना जाता है इसको यदि आप एक बार सीख गए तो इसमें इन्वेस्ट करके लाखों कमा सकते हैं

swing trading meaning in hindi(व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग)

 यह कह सकते है की इंट्राडे ट्रेडिंग और लॉन्ग ट्रेड ट्रेडिंग के बिच में जो माध्यम होता है वह स्विंग ट्रेडिंग के रूप में जाना जाता है यानी की यह ट्रेड छोटी अवधी का होता है जिसमे समय सिमा 1 दिन से कुछ हफ्तों या महीने तक होती है ।  आज के समय में जहाँ लोग लॉन्ग ट्रेड लेने से बचना चाहते है वही उनको दूसरे विकल्प के रूप में स्विंग ट्रेडिंग मौजूद है

स्विंग ट्रेडिंग में आसानी से कुछ दिनों के अंदर किसी स्टॉक में पैसा इन्वेस्ट करके 5 से 10 परसेंट का मुनाफा कमाया जा सकता है लेकिन इसके लिए अनुभव का होना अतिआवस्यक है  नहीं तो इस क्षेत्र में कोई जानकारी ना होने के वजह से आपका पैसा होल्ड भी हो सकता हैं

दूसरे ट्रेडिंग का मुक़ाबले स्विंग ट्रेडिंग सबसे सुरक्षित माना जाता है क्योंकि इसमें रिस्क बहुत ही कम हो सकता हैं और वैसे भी आप शेयर मार्किट में  स्टॉक खरीदते समय एवं कोई सेक्शन जैसे इंट्राडे , लॉन्ग ट्रेड , स्विंग ट्रेड आदि को बिना अनालिसिस के नहीं खरीद सकते हैं ।  स्विंग ट्रेड में आप महीने भर में अपने इन्वेस्ट किये हुए पैसे में 20% तक मुनाफा कमा सकते है 

stock market में इन्वेस्ट कैसे करे intraday के लिए कैसे शेयर चुने इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेड में अंतर

स्विंग ट्रेडर कौन हैं -swing trader kaun hai

swing trade ऐसे वयक्ति को सबसे ज्यादा पसंद आता है जो कई दिन से कई वीक तक का इन्वेस्ट करके अपने प्रॉफिट आने तक का इंतजार कर सकते हैं । इनके

यदि चार्ट के बारे में बात करे तो यह मुख्य रूप से 4 घंटे या 1 दिन का चार्ट का उपयोग करते हैं जिससे इनकी किसी भी शेयर में कोई फैसला लेने के लिए बहुत अच्छा ट्रांसपिरन्सी प्रदान करती हैं ।

स्विंग ट्रेडिंग वाल निवेशक अपना टाइम पीरियड को बहुत कम रखते है और अपना पैसा भी ज्यादा दिन होल्ड करना पसंद नहीं करते हैं ये वैसे लोग होते है

जो अपने निजी काम में ज्यादा वयस्त होने के वजह से मार्किट के रनिंग टाइम में अपना समय नहीं दे पाते इसलिए वो स्टॉक को एनालिसिस करने के बाद केवल खरीदने और बेचने तक का ही समय शेयर मार्किट को दे पाते है ।

इन लोगों को किसी स्टॉक में एनालिसिस करने का भरपूर समय मिलता है जो की इंट्राडे के दौरान हमे बहुत जल्दी फैसले लेने होते है जिससे हमे नुक्सान का भी दर बना रहता हैं

यही कारण है की स्विंग ट्रेड में ज्यादा समय मिलने के वजह से किसी भी शेयर का परीक्षण भी ठीक से कर पाते हैं जिससे हमे लोस्स होने का चांस ना के बराबर हो सकता हैं ।

या लोग ज्यादा प्रॉफिट का इंतजार नहीं करते हैं और स्टॉक खरीदने से पहले ही उसमे कितना प्रॉफिट का टारगेट रखना है यह भी पहले से ही तय कर लिया जाता हैं और प्रॉफिट मिलते ही स्टॉक को सेल्ल कर देते है चाहे वो प्रॉफिट कितना भप प्रतिसत का हो उससे उन्हें कोई मतलब नहीं होता हैं ।

macd का डे ट्रेडिंग में प्रयोग  शेयर मार्किट की सुरुवात कैसे करे  किस कंपनी का शेयर चुने 

tips for swing trading(व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग)

    pdf प्राप्त करे 

1 ) सबसे पहला और महत्वपूर्ण टॉपिक यह है की स्विंग ट्रेडिंग करते समय अपने भावनाव को काबू में रखें जरा सा भी उतार – चढ़ाव पर स्टॉक को बेचने का ख्याल अपने मन में ना लायेक्योंकि अपने एनालिसिस बढ़िया किया है इसलिए अपने सेट किये हुए टारगेट के पास उस स्टॉक को आने तक का इंतजार करे

2 ) स्विंग ट्रेडिंग में यदि आप हर बार प्रॉफिट लेकर बहार आना चाहते है तो कम से कम प्रॉफिट का चुनाव करे और यह प्रॉफिट 5% का हो सकता है क्योंकि 5% प्रॉफिट स्विंग ट्रेडिंग के लिए सबसे अच्छा माना जाता है और अपने सही स्टॉक का चुनाव किया है तो एक हफ्ते के अंदर यह टारगेट आसानी से मिल जायेगा

3 ) यदि आपके अंदर की भावनाये काबू में नहीं हो रही है तो उसका सबसे बढ़िया उपाय यही है की किसिस भी स्टॉक की  क्वांटिटी कम मात्रा में ख़रीदे ताकि नुक्सान भी हो तो कम हो और जैसे ही 5% का उछाल दिखे उस शेयर को बेच दे और ऐसे आप कम से कम 10 बार करे इससे आपका स्टॉक खरीदने के प्रति आत्मविश्वास बढ़ जायेगा

4 ) जिस भी चार्ट का उपयोग आप कर रहे है तो उसमे कम सेकम 10 ट्रेड जरूर ले उसके बाद ही उस चार्ट को बदले यदि आपके दवारा उपयोग किया हुआ चार्ट में , 10 ट्रेड में 7 ट्रेड सही है तो

उस चार्ट में आप लम्बे समय तक बने रह सकते है इसलिए बार – चार्ट को बदलने की सोच के साथ मार्किट अच्छे एनालिसिस करने के बावजूद भी आपको प्रॉफिट कभी हासिल नहीं हो सकती हैं

5 ) स्टॉक को खरीने करने के बाद उसमे 5% से ज्यादा प्रॉफिट लेना चाहते है तो 5% लाभ मिलने के बाद ट्रेलिंग स्टॉपलॉस का इस्तेमाल करे

rsi क्या है  रेंको क्या है  अपना लोस्स रिकवर कैसे करे 

technical chart par swing trading kaise kare – टेक्निकल चार्ट पर स्विंग ट्रेडिंग कैसे करे 

दोस्तों अब मैं आपको स्विंग ट्रेडिंग के लिए किसी स्टॉक को कैसे चुनते है और उसे टेक्निकल चार्ट पर अप्लाई कैसे करे इसके बारे में बताने वाला हूँ जिससे आपको भी कोई स्टॉक में पोसितों बनाने में आसानी होगी और टेक्निकल चार्ट पर काम करने का तरीका भी मालूम चल जायेगा और इस टॉपिक का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा भी यही है ।

ध्यान देने वाली बातें (व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग)

  • चार्ट के बारीकी से एनालिसिस करना बहुत जरुरी है ।
  • स्टॉक का चुनाव nifty 50 य nifty bank से करे ।
  • हाई वॉल्यूम और ज्यादा उथल – पुथल वाला स्टॉक को ही चुने ।
  • ऐसे स्टॉक चुने जो पिछले कुछ सालो में बढ़िया परफॉर्म कर रही हो ।
  • चार्ट को सिंपल रखें ज्यादा इंडिकेटर का इस्तेमाल नहीं करे ।
  • स्टॉक का प्राइस  500 रूपए के ऊपर का चुने इसके दो फायदे हो सकते हैं की कोई बड़ा इन्वेस्टर इसकी ज्यादा क्वांटिटी को खरीद नहीं सकेगा और बहुत सारे रिटेल इन्वेस्टर है जो छोटे प्राइस में काम करना पसंद नहीं करते है और साथ में इन्वेस्टर लॉन्ग पोसितों के लिए भी इन्ही स्टॉक में अपना पैसा लगाना पसंद करते है

इंडिकेटर

  • सुपर ट्रेंड – सेटिंग ( 7, 3)
  • मूविंग एवरेज  50 डेज
  • rsi ( 50 )

हमे एक बढ़िया स्विंग ट्रेड लेने के लिए तीन इंडिकेटर की जरुरत होगी जिसमे पहला सुपर ट्रेंड है जिसका सेटिंग में जाकर आप उसे 7 और 3 के रेश्यो में सेट कर दे और इस सेटिंग में हमे कोई ट्रेड लेना है ।

swing trading pdf

दूसरा जैसा की हम जानते है 50 दिन का मूविंग एवरेज ट्रेंड चेंज के लिए जाना जाता है इसलिए हमे यह कन्फर्म करने के लिए 50 दिन का मूविंगे एवरेज रखना जरुरी है । तीसरा rsi को लिए जिसका सेटिंग हम 50 रखेंगे

gtt order कैसे करे   strong शेयर कैसे चुने  candle की पहचान 

स्विंग ट्रेड स्टॉक कैसे खरीदें 

मैंने स्विंग ट्रेड के लिए एक बैंक के स्टॉक को चुना है जिसका नाम icici bank हैं आप भी अपने हिसाब से कोई बढ़िया स्टॉक को चुन सकते है और मैं इस बैंक वाले स्टॉक में आपको यह बताऊंगा की swing trade के लिए कब स्टॉक को खरीदना है , कहाँ स्टॉप लोस्स होगा , और किस समय इसे बेचकर मुनाफा कमाए ।

व्हाट-इस-स्विंग-ट्रेडिंग-1

buy

हमे स्टॉक को खरीदने के लिए मुख्या रूप से तीन बिंदु पर ध्यान देना होगा जिसमे पहला है rsi , इसके सेटिंग में जाकर इसके दौड़ने पॉइंट ( 80,20) को 50 पर सेट कर दे और जब तक कोई स्टॉक इस 50 वाली रेखा के ऊपर नहीं जाती तब तक हम किसी स्टॉक को नहीं खरीदेंगे और उस समय तक इंतजार करना ही बेहतर होगा ।

दूसरा इंडिकेटर  , मूविंग एवरेज है जो की 50 दिन का है और यह ट्रेंड चंगेर भी माना जाता हैं इसलिए किसी स्टॉक को खरीदने से पहले कोई कैंडल का क्लोजिंग 50 डेज मूविंग एवरेज के ऊपर होना जरूरीर है जिससे हमे यह कन्फर्म हो जायेगा की अब स्टॉक के ऊपर जाने के चांस बन सकते हैं

तीसरा इंडिकेटर , सुपर ट्रेंड है जिसके सेटिंग में जाकर आप 7 और 3 को जरूर चुने जिससे हमारी स्टॉक को खरीदने के प्रति एक्यूरेसी बढ़िया हो जाती है और हमारा लिया हुआ फैसला भी काफी हद तक सटीक बैठता है ।

स्टॉक का ऊपर में बताये गए दो इंडिकेटर में पास होने के बाद जैसे ही सुपर ट्रेंड की लाइन लाल से ग्रीन में बदल जाए वैसे ही हम उस स्टॉक को स्विंग ट्रेड के लिए खरीद लेंगे ।

शरमार्केट में करोड़पति कैसे बने  इंट्राडे बोलिंगर बैंड्स स्ट्रेटेजी  5 सिंपल मूविंग एवरेज के फायदे 

stop loss (व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग)

किसी भी शेयर को खरीदने के बाद उसमे स्टॉप लोस्स लगन बहुत जरुरी हो जाता है क्योंकि यह हमे किसी बड़े लोस्स होने से बचा सकते हैं इसलिए इस ट्रेड में स्टॉप लोस्स लगाने के लिए सुपर ट्रेंड के सिग्नल का इस्तेमाल करेंगे और इसके लिए हम सुपर ट्रेंड की ग्रीन लाइन के ठीक निचे लगाएंगे जिसे की इमेज में आप देख सकते हैं ।

sell 

अब बरी आती है स्टॉक को बेचकर प्रॉफिट कमाने की और इसके लिए आप ज्यादा एनालिसिस ना करे तो अच्छा ही क्योंकि अपने प्रॉफिट को 3 से 5 % तक रखा सकते है और यकीं  मानिये  , इस दायरे में यदि आप प्रॉफिट रखते है तो प्रॉफिट आपको निरंतर मिलता रहेगा और साथ में आपके पैसे भी ज्यादा दिन के लिए होल्ड नहीं होंगे ।

इस तरह से आप एक सफल स्विंग ट्रेडर बहुत ही आसान तरीके से बन सकते हैं और जैसे – जैसे इस क्षेत्र में आप पुराने होते चले जायेंगे वैसे ही आपका स्टॉक में पकड़ भी मजबूत हो जायेगा और इसके बाद 5% से भी ज्यादा का मुनाफा आसानी से कमा सकेंगे ।

शेयर खरीदने का तरीका stop-loss लगाने का तरीका  swing trade करने के तरीका 

निष्कर्ष (व्हाट इस स्विंग ट्रेडिंग)

उम्मीद है आपको मेर यह आर्टिकल swing trading in hindi खूब पसंद आया होगा और इसमें मैंने स्विंग ट्रेड से जुडी साड़ी जानकारी आपके साथ शेयर की है यदि आपको अभी भी कोई सवाल है जो नहीं समझ में आया तो हमे कमेंट में पूछ सकते  हैं जिसका जवाब मैं जल्द से जल्द देने की कोशिस करूँगा ।

Leave a comment