share market maths hindi – शेयर मार्केट का गणित

share market maths hindi

अक्सर पूरी जनकारी के अभाव में जो नए इन्वेस्टर है वो बहुत बड़ी गलती करते हैं और हद तो तब हो जाती हैं जब कोई बड़ा पैसा किसी स्टॉक में बिना सोचे समझे लगा देते हैं और उन्हें यह मालूम नहीं होता हैं की स्टॉक ऊपर जायेगा या निचे अंत में लोस्स पर ही उस स्टॉक को बेच देते हैं

इस आर्टिकल के जरिये शेयर मार्केट का गणित  के बारे में कुछ सुझाव पेश करूँगा जिससे आप बहुत ही आसानी से इसके अंदर आने वाले हर उतार चढ़ाव को आसानी से समझ सकेंगे

हालंकि नए लोगो के लिए sheyar market के गणित समझना थोड़ा मुश्किल जरूर हैं लेकिन कठिन नहीं हैं क्योंकि मैं जब शेयर मर्केट में नया था तो मुझे भी यह क्षेत्र बहुत ही अजीब लग रहा था और साथ में हर दिन मुझे लोस्स हो रहा था लेकिन हर नुक्सान का कारण का पता लगाना और उसको ठीक करना ताकि उस गलती को दोहराया न जा सकें

कम पूंजी को शेयर मार्किट में लगाना , हर दिन कुछ नया सिखने की ललक , डेली पेपर वर्क करना आदि हो तो आप इस क्षेत्र में आसानी से सफल हो सकते हैं

लेकिन इसमें आपको कुछ समय ( 6 महीना से 1 साल ) सिखने के लिए जरूर देना होगा या फिर कोई शेयर मार्किट का कोर्स करे जो काफी महंगे होते है और नहीं तो मेरी तरह रोज इंटरनेट के माध्यम से शेयर मार्किट के बारे में बहुत कुछ सिख सकते हैं ।

आपको राय दूंगा की इंटरनेट से सिखने की कोसिस करे और demat account ओपन करा कर थोड़ा पैसा इन्वेस्ट करे । इससे आपको प्रैक्टिकल और थ्योरी दोनों की जानकारी साथ – साथ होने लगेगी जिससे आप जल्दी सिख सकेंगे

learn share market in hindi शेयर मार्किट चार्ट कैसे समझे   intraday ke liye stock kaise chune

share market maths in hindi

शेयर मार्केट का गणित कैसे समझे ? बिलकुल आसान हैं जिसके बारे में कुछ जरुरी बातें मैं आपको आज बता रहा हूँ

share-market-maths-hindi-1

 

कोई  कंपनी का एक साल में 4 बार रिजल्ट निकलता हैं जिसे हम क्वाटर्ली  रिजल्ट कहते हैं यदि आप किसी बढ़िया स्टॉक का चुनाव करते हैं जो हर  साल बढिये परफॉर्म कर रही रही हैं

अपने क़्वार्टली रिजल्ट में भी प्रॉफिट में हैं तो आपको इसमें कुछ ज्यादा दिमाग लगाने की जरूररत नहीं हैं बस इसके क़्वार्टली रिजल्ट के ठीक पहले अपने पैसे का कुछ हिस्सा इसमें लगाकर कुछ दिनों के लिए छोड़ दे

जैसे ही इसका रिजल्ट आए और कम्पनी प्रॉफिट करे तो निश्चित्त ही आपको भी कोई ना कोई प्रॉफिट होगा फिर उसके बाद स्टॉक को सेल्ल कर दे

 

 

शेयर मार्किट से समन्धित न्यूज़ की जानकारी रोज प्राप्त करे जैसे ही आपको लगे की कोई स्टॉक है जिसकी डिमांड आगे आने वाली दिनों में बढ़ने वाली है

सरकार द्वारा कोई बड़ा आर्डर किसी कंपनी को मिला हैं तो इस स्थिति में भी आप उस स्टॉक को कुछ दिनों के लिए खरीद कर होल्ड पर रख सकते हैं और कुछ मुनाफा होने पर बेच दे

 

कोई स्टॉक ऐसे भी हैं जो साल भर ठीक से नहीं ग्रो करते हैं जैसे की पेंट वाले शेयर सिर्फ दिवाली के समय ही ज्यादा चलते क्योंकि इस समय सभी लोग अपने घरों में पेंट करते हैं जिसके कारण इनका डिमांड बढ़ जाता हैं

तो इसके शेयर भी ठीक दिवाली से एक महीने पहले खरीद कर होल्डिंग पर रख सकते हैं और जैसे ही इसकी डिमांड बढ़ेगी तो इनका प्राइस भी इनक्रीस करेगा और उस समय आप शेयर को  बेच दे

 

how to learn share market in hindi share market se paise kaise kamaye in hindi  what is stop loss in share market in hindi

शेयर मार्केट के गणित से कैसे कमाए ?(share market maths hindi)

1 ) ऊपर दिए गए सारे टिप्स को फॉलो करते समय टेक्निकल चार्ट का इस्तेमाल जरूर करे ताकि आपकी एक्यूरेसी और भी बढ़ जाए जिससे आपको यह पता चल सकें की मुझे कब किसी शेयर को खरीदना हैं और कब बेचना हैं ।

लेकिन एक बात का हमेशा ध्यान रखें की कभी भी ज्यादा प्रॉफिट कमाने का लालच ना करे नहीं तो आपको बहुत बड़ा नुक्सान भी हो सकता हैं और साथ में किसी स्टॉक में कितना प्रॉफिट मिलने पर उसे बेच देना है  इस फैसले पर हमेशा तबज्जो दे

2 ) हर क्षेत्र के स्टॉक की लिस्ट जरूर बनाकर रखें जिसमे बढिये कम्पनी के कम से कम 10 स्टॉक को जरूर शामिल करे क्योंकि एक ही समय में सारे क्षेत्र के स्टॉक एक साथ नहीं चलते हैं जिसका सीधा फायदा हमे होता हैं जिसके कारण हम आसानी से उस स्टॉक को चुनकर उसमे एनालिसिस करके अपना पैसा इन्वेस्ट कर सकते हैं

3 ) कभी भी एक तरह के स्टॉक में अपने सारे पैसो को इन्वेस्ट ना करे अलग अलग क्षेत्र के अलग – अलग  शेयर में ही पैसा इन्वेस्ट करे क्योंकि मान लीजिये की किसी फार्मा के स्टॉक में अपने पैसा लगाया हुआ है

जो लोस्स में चल रहा हैं और वहीँ दूसरी तरफ कोई आईटी सेक्टर में पैसा लगे जो प्रॉफिट में हैं तो इस समय आपका लोस्स का चाणक्य बहुत कम होगा या फिर आप प्रॉफिट मर भी हो सकते हैं

4 ) प्रतेक 10 स्टॉक को खरीदने के बाद उसका एनालिसिस करे की उसमे से कितने में लोस्स हुआ और कितने में फायदा हुआ है यदि यह रेश्यो (7:3/ 6:4 )का हैं बहुत बढ़िया यदि नहीं हैं तो आपको फिर से अपने इन्वेस्ट करने के तरीके को बदलना होगा या फिर कोई दूसरा चार्ट का इस्तेमाल करना होगा

 

intraday से पैसा कमाने का तरीका  swing tarding kaise kare शेयर कैसे ख़रीदे 

शेयर कैसे खरीदते है

अब मैं आपको शेयर कैसे ख़रीदा जाता हैं ? इसपर बताने वाला हूँ वैसे तो शेयर खरीदने के हज़ारों तरीके हैं जिसमे से मैं आज आपको एक तरीका बताने वाला हूँ जो की बिलकुल आसान हैं और आपको समझ में भी आसानी से आएगा ।

यदि आपको टेक्निकल चार्ट इस्तेमाल करने आता हैं तो आप इसे आसानी से समझ सकते हैं जिसमे मैं कुछ इंडिकेटर को टेक्निकल चार्ट में लगाऊंगा और शेयर कहाँ ख़रीदे , कहाँ स्टॉप लोस्स लगाए और सेल कब करे ये सारे मेथड आपको टेक्नीकल चार्ट ही बता देगा बस आपको फैसले लेने होंगे ।

indicator

  • 50 days moving avarage
  • supertrend
  • macd
  • rsi
  • 1 ऑवर और 1 day टाइम फ्रेम

सबसे पहले टेक्निकल चार्ट पर जाए और दाए तरफ ऊपर में टाइम पीरियड को day पर कर दे । फिर ठीक उसके बगल में इंडिकेटर सेक्शन में जाकर हम तीन  इंडिकेटर को सेट करेंगे जिसमे पहला 50 दिन का मूविंग एवरेज , दूसरा  macd , और तीसरा  rsi है इसको इंडिकेटर के सर्च बॉक्स में सर्च करे और अपने टेक्निकल चार्ट पर सेट कर ले ध्यान रहे की इसके सेटिंग के साथ कोई बदलाव नहीं करना हैं ।

renko and मूविंग एवरेज स्ट्रेटेजी  सुपर ट्रेंड और rsi स्ट्रेटेजी  5 simple moving average strategy

share market me paise kaise lagaye(share market maths hindi)

buy

 जिस भी स्टॉक को खरीदने के लिए चुना हैं उसको इस चार्ट पे लगाएंगे जिससे की उसे कब खरीदना हैं उसका पता चल सकें एक उदहारण के लिए मैंने ntpc स्टॉक का चुनाव किया हैं और आप कोसिस करे की जो भी स्टॉक आप चुने वो nifty 50 या nifty bank के हो । सबसे पहले टाइम पीरियड को एक दिन पर सेट करेंगे

शेयर-कैसे-खरीदते-है-1

जब कोई स्टॉक किसी ग्रीन कैंडल के साथ 50 डेज मूविंग एवरेज के ऊपर क्लोजिंग दे तो उस स्टॉक को खरीदने के तरफ जायेंगे और ऊपर दिए इस चार्ट में देखें तो तीर के निसान के पास एक ग्रीन कैंडल बना हैं

अब एक्यूरेसी को बढाने के लिए हम दो इंडिकेटर पर अभी और जाँच करेंगे । macd की लाइन निचे से ऊपर की तरफ क्रॉस होना चाहिए और इसका histogram भी इनक्रीस होना जरुरी हैं

अब आखिरी सिग्नल rsi को चेक करना हैं जिसका लाइन 50 से ऊपर होना चाहिए और ऐसा माना जाता है की जब भी rsi 50 के ऊपर होती हैं तो स्टॉक के ऊपर जाने के चांस बहुत ज्यादा होता हैं

stop loss 

किसी भी स्टॉक को buy करने के बाद स्टॉप लोस्स लगाना जरुरी होता हैं इसलिए मैं आज इस चार्ट में आपको स्टॉप लोस्स लगाने के दो तरीके बताऊंगा जिसमे से आप किसी भी तरीके को चुन सकते हैं एक ऊपर दिए इमेज में हैं जो 50 डेज मूविंग एवरेज के निचे रेड कैंडल के पास स्टॉप लोस्स सेट करने के लिए बताया गया हैं और दूसरा निचे इमेज में हैं जिसमे मैंने सुपर ट्रेंड के द्वारा स्टॉप लोस्स लगाने के बारे में बताया हैं और दौड़ने चार्ट सेम हैं

share-market-maths-hindi-3

bollinger band for intraday share market se crorepati share market candle क्या है 

sell

अब बारी हैं की स्टॉक को सेल्ल कब करे इसके लिए हमे चार्ट में जब macd ऊपर से निचे की तरफ क्रॉस करे या फिर rsi overbought zone( 70 -80) में चला जाए तो भी सेल्ल कर सकते हैं

या फिर हमेशा की तरह 5% का प्रॉफिट ले और स्टॉक को बेच दे और यह तरीका सबसे सुरक्षित माना जाता हैं एवं नहीं तो आप थोड़ा रिस्क लेकर ज्यादा मुनाफा कमाना चाहते हैं तो supertrend को लगाकर भी स्टॉक को सेल्ल कर सकते हैं ।

share-market-maths-hindi-4

चार्ट से सारे इंडिकेटर को हटा ले और सिर्फ सुपेर्ट्रेण्ड इंडिकेटर को लगाएं एवं यह स्ट्रेटेजी सिर्फ स्टॉक को सेल्ल करते समय ही अपनाये जब आप सुपेर्ट्रेण्ड को चर्ता पर लगाएंगे तो टाइम पीरियड को 1 ऑवर पर करे और जब तक कोई भी कैंडल सुपेर्ट्रेण्ड को ना छुवे तब तक स्टॉक में बने रहे जैसे ही छुवे स्टॉक को सेल्ल कर दे ।

जैसा की ऊपर पिक्चर में आप देख सकते हैं 97.50 में स्टॉक को ख़रीदा गया और 111 रुपये में कुछ दिनों के बाद बेच दिया गया यानी की कुल 15% के आस – पास मुनाफा हुआ यदि आप थोड़ा रिस्क लेना चाहते हैं

तो इस तरह भी स्टॉक को सेल्ल कर सकते हैं और यह प्रक्रिया सभी तरह के स्टॉक खरीदने के बाद अप्लाई कर सकते हैं बस केवल वो स्टॉक 50 डेज मूविंग एवरेज के ऊपर होना चाहिए ।

pe ratio और eps क्या है  gtt order lagaane ka tarika rsi indicator क्या है 

शेयर बाजार में कैसे करें निवेश की शुरुआत – share bajaar me kaise kare nivesh ki surwaat 

  • यदि आप लॉन्ग टाइम के लिए शेयर मार्किट में बना रहना चाहते हैं तो कम से कम पूंजी शेयर मार्किट में लगाएं ।
  • एक ही स्टॉक में सारे पैसे कभी ना लगाएं ।
  • किसी स्टॉक में पैसे लगाने से पहले उस स्टॉक के लिए एक अलग से उन पैसों को 10 भाग में बाँट ले ताकि बाद में किसी कारण वश यदि वह स्टॉक थोड़ा निचे आय तो फिरसे एक एवरेज आउट करने के लिए फिर से पैसा लगाया जा सकें ।
  • स्टॉक के हर तरह के क्षेत्र जैसे की आईटी, फार्मा सेक्टर , बैंक , आयल , मेटल सेक्टर , टेक्नोलॉजी , ऑटोमोबाइल आदि सभी में पैसों को समय – समय पर इन्वेस्ट करें ।
  • यदि आपको लग रहा हैं की स्टॉक में पैसे लगाने के बाद नुक्सान हो रहा हैं तो अपने चार्ट को बदलने के साथ अपने तरीके को भी चेंज करे ।
  • बार – बार चार्ट बदल कर स्टॉक को ना खरीदें किसी एक चार्ट पर काम करते समय कम से कम 6 महीने जरूर चलाये क्योंकि कोई भी चार्ट का एक्यूरेसी 100% नहीं हो सकता हैं इसलिए इस तरह यदि आप चार्ट बदलते रहेंगे तो आपको केवल नुक्सान ही होगा ।
  • किसी भी स्टॉक का अनलयसिस खुद से करे ना की की किसी दूसरे के राय पर चाहे वो इनफार्मेशन आपको इंटरनेट से मिले या फिर कोई न्यूज़ चैनल से , मैं यह नहीं कहता हूँ की आप इनफार्मेशन न ले बल्कि इनफार्मेशन मिलने के बाद उस स्टॉक को अपने तरीके से जरूर सर्च करे तभी उस स्टॉक को खरीदें ।
macd का उपयोग कैसे करे  इंट्राडे और डिलीवरी ट्रेडिंग में अंतर  share market me job

notes(share market maths hindi)

यह आर्टिकल केवल एजुकेशन के लिए लिखा गया हैं शेयर मार्किट में पैसा निवेश करने से पहले अपने एडवाइजर से सलाह जरूर ले ।

Leave a comment