inverter ac means in hindi- इन्वर्टर ऐसी क्या होता है ?

inverter ac means in hindi

आज हम inverter ac की पूरी जानकारी को जानेंगे और उसी जवाब को अच्छी तरह से समझने केलिए आप भी वयाकुल हो रहे होंगे तो घबराईये नहीं दोस्तों मैं आज आपको इस टॉपिक से समन्धीत सारी जानकारी आपको बताऊंगा जैसे इसका नाम inverter ac क्यों पड़ा , यह कितने तरह के होते है , इंटरनल फंक्शन , यह पावर सेविंग किस प्रकार करता हैं आदि ।

बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो इस ac को इन्वर्टर से चलने वाला ac कहते हैं जो की गलत है लेकिन एक बात हैं आप इसे इन्वर्टर पर भी चला सकते हैं लेकिन उसके लिए आपको कुछ नियम को फॉलो करने होंगे तो आप इसे इन्वर्टर पर भी चला सकते हैं और इसके बारे में भी मैं आपको बताऊंगा जिसे आप अपने घर में भी एक छोटी सी कोसिस कर के देख सकते हैं ।

 inverter-ac-means-in-hindi-1

inverter ac क्या है ?-how ac works in hindi

जिस तरह हमारे घर की बिजली के चले जाने के बाद हमारे घर में लगा हुआ इन्वर्टर जो की ऑटो मोड में काम करता हैं , पलक झपकते ही अपने आप को ऑन कर लेता है और हमे जरा सा भी बिजली जाने का संकेत को महसूस नहीं होने देता है

ठीक उसी प्रकार इस ac में लगा नई जनरेशन का कंप्रेसर पुराने ac की के कंप्रेसर  की तुलना ऑन होने के बाद  कभी भी बंद नहीं होता जब तक की उसे स्विच ऑफ ना कर दिया जाए । इसी खूबी के वजह से इसे इन्वर्टर ऐसी कहा जाता है ।

ac कूलिंग प्रोबलम कैसे ठीक करे ?

how to work inverter ac in hindi (inverter ac means in hindi)

आज से 10 से 12 साल पहले के जो ac आते थे वो इन्वर्टर ac के सिद्धांत पर काम नहीं करते थे उनका एक सिंपल फंक्शन था की हम जब उस ac को ऑन करते थे तो उसी समय सिर्फ चालू होने के लिए वो सबसे ज्यादा एम्पेयर का इस्तेमाल करता था जिसके कारण हमारे घर में लगे दूसरे इलेक्ट्रिक डिवाइस में भी असर पड़ता था जो की यह एक इसकी सबसे बड़ी नेगेटिव पॉइंट थी ।

normal- ac-compressor

माना की किसी तापमान पर हमने ac को सेट किया है और उसे  ऑन कर दिया तो इस समय यह जब तक हमारे सेट किये हुए तापमान पर जब ac आता हैं तो उसके कंप्रेसर बंद हो जाते हैं

जैसे ही रूम का तापमान गर्म होने लगता है तो उसका कंप्रेसर फिर से स्टार्ट होता है और यह प्रक्रिया चलती रहती हैं और हम यह बात जानते है की जब कंप्रेसर स्टार्ट होता है तब बिजली की खपत ज्यादा करता है ।

इसी समस्या को दूर करने के लिए inverter ac को बाजार में लाया गया था इन्वर्टर ac को जब हम ऑन करते हैं तो वह पुराने कंप्रेसर की तरह ज्यादा एम्पेयर लेकर कभी चालू नहीं होता है बल्कि ठीक इसके उलट धीरे – धीरे स्टार्ट होता हैं जिससे हमारी घर में लगे दूसरे डिवाइस सेफ रहते हैं ।

इसके बाद वह हमारे द्वारा सेट किये गए तापमान को सेन्स करता है और फिर उस तापमान में आने के बाद बंद होने के बजाये उसका स्पीड कम हो जाता है जिससे रूम के टेम्प्रेचर एक जैसे रहते है ।

जैसे ही हम टेम्प्रेचर को घटाएंगे वैसे ही इस कंप्रेसर का स्पीड बढ़ जायेगा । इस तरह यह हमारे बिजली को 30 से 40 प्रतिसत बिजली बचाने की क्षमता रखता है ।

इन्वर्टर  ac कितने प्रकार के होते हैं ?

ac मुख्य रूप से तीन तरह के होते हैं

  • normal inverter ac

inverter- ac-compressor

इस तरह के ac नॉइज़ के मामले में थोड़ा पीछे है और कूलिंग भी थोड़ा देर से करते हैं और बिजली बचाने के मामले में यह ac सबसे बेस्ट है । और मैंने इसकी खूबी को ऊपर बड़े विस्तार से बताया हैं

जिससे आप इसके खूबी से भली बहती समझ गए होंगे । सेट की हुई रूम तापमान पर आते ही इसके मोटर बंद नहीं होते है बल्कि रूम को हाई टेम्प्रेचर में जाने से रोकते हैं और धीमी स्पीड में इसके कंप्रेसर चलते रहते हैं

  • dual inverter ac 

dual-inverter- ac-compressor

इस तरह के ac , bldc motor का इस्तेमाल करते हैं जो बिजली बचाने के लिए सबसे बढ़िया माने जाते हैं  । बिना तेज गति से चलते हुए भी रूम को अच्छी तरह कूलिंग कर सकते हैं और इनमे नॉइज़ की समस्या नहीं होती हैं ।

ऊर्जा खपत के मामले में यह normal inverter ac के मुक़ाबले ज्यादा पावर सेविंग करते हैं यही कारण है की इन्हे बाजार में लाया गया ताकि कस्टमर के बेहतर सुविधा दी जा सके

ac की पूरी जानकारी 

  • triple inverter ac(inverter ac means in hindi)

किसी दूसरे तरह के ac के मुक़ाबले सबसे कम तापमान 14 डिग्री होती है कहने का मतलब यह हैं की नार्मल ac का सबसे कम तापमान 18 डिग्री होता है जबकि  ट्रिपल ac का तापमान 14 डिग्री होता है

इसमें जो मोटर इस्तेमाल करते हैं वो dual inverter ac की तुलना में भी ज्यादा एडवांस होते हैं । जब हम इस ac को चालू करते हैं तब रूम को कूलिंग करते समय थोड़े ज्यादा बिजली का उपयोग करता हैं और जैसे ही सेट किये हुए तापमान में आता है तो 1500 वाट पैर ऑवर के हिसाब से बिजली को यूज़ करता हैं

ac का बिल कम कैसे करे ?

dual inverter ac means in hindi

ऊपर मैंने केवल इनफार्मेशन के लिए डुअल इन्वर्टर एसी का मतलब  बताया है लेकिन अब मैं आपको dual inverter ac kya hota hai इसको पुरे विस्तार से बताऊंगा जिसे आपको समझने में कोई परेशानी नहीं होगी ।

शायद आप टीवी या कई अन्य जगह पर dual inverter meaning in hindi के वज्ञापन जरूर देखे होंगे और इसके बारे में जानने की इच्छा भी आयी होगी लेकिन निर्माता कंपनी यह उपकरण का निर्माण को बहुत ज्यादा बढ़ा दिया है जिसमे कई बड़े नामी ककपनी शामिल है ।

lg , samsung , llyod , hitachi , whirlpool आदि ये सभी कंपनी दावा करते है की आपको इस दोहरे इन्वर्टर ऐसी में पहले से ज्यादा बेहतर प्रदर्शन , बिजली बचत की सुविधा मिलती है । क्या यह सच है या फिर केवल मार्केटिंग के लिए ये सभी कंपनी ये तरीका अपना रही है ।

घर के जरुरत के अनुसार लगभग 400 स्क्वायर फिट से लेकर 100 स्क्वायर फिट के रूम के लिए कम से कम 1 टन ऐसी की जरुरत पड़ जाती है । कमरे में मौजूद गर्मी  को दूर करने के लिए एक टन ऐसी कम से कम एक घंटे का समय लेता है ।

यहाँ पर हमे ध्यान यह देना होगा की गर्मी यानी की ऊष्मा की मात्रा को हम  BTU ( British Thermal Unit ) में मापते है इसलिए उदाहरण के तौर पर यदि मैं आपको समझाऊ तो एक टन ऐसी उस रूम को एक घंटे में करीब 12000 btu निकाल सकता है ।

किन्तु यहाँ समझने वाली बात यह है की जितनी अधिक टन मान होगा उतना ही ज्यादा हवा ठंड होने लगेगी । अब यह सभी अनुपात कंपनी और प्रोडक्ट पर निर्भर करता है की वे इस चीज को किस तरह से देखते है ।

दोहरे इन्वर्टर ऐसी के लाभ – benefits

एक साधारण इन्वर्टर एसी में सिंगल कंप्रेसर के साथ  अलग – अलग स्पीड का उपयोग कर ऐसी को संचालित करता है । यह इन्वर्टर hvac सिस्टम की शीतलन क्षमता को संशोधित करने के लिए कंप्रेसर को संचालित करता है परन्तु dual inverter ac में जो कंप्रेसर इस्तेमाल होते है वह आम तौर पर twin rotary compressor के नाम से जाने जाते है ।

इस कंप्रेसर में  2 संपीड़न कक्ष होते हैं जो 180 डिग्री संपीड़न समय के चरण अंतर का उत्पादन करते हैं। पहला रोटरी कम्प्रेसर का स्पीड  720 आरपीएम और 9,000 आरपीएम (रिवोल्यूशन प्रति मिनट) के बीच काम करते हैं।

  • advantage of dual inverter ac in hindi 

यदि मैं  इसके मुख्य बेनिफिट्स की बात करू तो इसे तीन भागो में बांटा जा सकता है और इन्ही तीनो लाभ को समझकर इस ड्यूल इन्वर्टर ऐसी की समीक्षा कर सकते हैं ।

  • ENERGY EFFICINCY – बिजली ऊर्जा बचत 

बिजली बचत के बारे में हर कोई सोचता है । बड़े ब्रांड 53% बिजली बचत का दावा करते हैं क्योंकि दोहरे इनवर्टर ऐसी कम बिजली का इस्तेमाल करते है ।  इसके लिए रोटेशन की कम आवृत्ति की आवश्यकता होती है जिसके फलस्वरूप  बिजली की कम मांग बहुत कम होती है।

  • LOWER VIBRATION – कम कम्पन 

इसका मतलब तो सभी जानते है अथार्त इसका मतलब यह है की कंप्रेसर के चलने के दौरान कम से कम आवाज उत्पन्न करना । सिंगल इन्वर्टर ac में हाई स्पीड पर संचालित होता है

जिसके वजह से शोर ज्यादा सुनाने को मिलता है जबकि एक दोहरी इन्वर्टर प्रणाली में रोटार 180 ° चरण में बदल जाते हैं, जो पूरी क्षमता से संचालित होने के बाद भी  अधिक स्थिर बना रहने के साथ कम शोर पैदा करता है ।

  • FAST COOLING – जल्द ठंडा करना 

रूम का तापमान को नियंत्रण करने में dual inverter technology माहिर होता है जिससे हमे तेज सीतलन जैसे एक और लाभ मिल जाते है । इस तरह के ऐसी में बहरी मांग के अनुसार रोटर की गति लगातार बदलती रहती है अथार्त रूम को ठंडा करने के लिए रोटर का फुल स्पीड में रन करने की कोई जरुरत नहीं होती है ।

हवा से गर्मी को दूर करने के लिए dual inverter ac के twin rotators में निरंतर स्पीड में वैरिएबल देखने को मिलते है जिसके वजह से normal ac के मुक़ाबले रूम को बहुत तेजी से ठंड कर सकता हैं ।

निष्कर्ष 

हमने अभी तक यह जान लिया है की inverter ac meaning in hindi , meaning of inverter ac in hindi , inverter ac means , inverter compressor meaning in hindi , inverter ac kya hota hai , what is the meaning of inverter ac in hindi , triple inverter ac means , inverter ac in hindi , inverter ac benefits in hindi , what is inverter ac in hindi , या फिर ऐसी क्या होता है , इन्वर्टर एक मीन्स , इन्वर्टर एसी , ऐसी क्या होती है , इन्वर्टर एसी क्या होता है , इन्वर्टर ac क्या हैइसभी सवाल के उत्तर आपको ऊपर आर्टिकल में मिल जायेंगे

Leave a comment