inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram)

inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram)

क्या आप इन्वर्टर को मैन सप्लाई से कैसे जोड़े इसके बारे जानना चाहते हैं तो आप बिलकुल सही स्थान पर आये हैं क्योंकि आज मैं आपको inverter wiring के बारे में बताने वाला हूँ

जो हो सकता हैं की आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित हो जाए और साथ में मैं आपको छोटे – छोटे टिप्स भी बिच में बताता रहूँगा जिससे आपको समझने के साथ आपके फ्यूचर में बहुत काम भी आये

आज मै आपको इसके कनेक्शन का इतना आसान तरिका बताऊंगा की आप पहले प्रैक्टिकल के साथ ही आसानी से इसको जोड़ना सिख जायेंगे और साथ – साथ inverter connection diagram को भी आपके सामने पेश करूँगा

चाहे तो आप उसे भी देख कर  inverter battery connection को आप बड़े आसानी से कर सकते हैं तो चलिए इसके कनेक्शन को करने के लिए सीखते हैं ।(how to connect inverter to switch board in hindi)

घर के वायरिंग  करते समय जब हम 2 पिन सॉकेट या फाइव पिन सॉकेट का कनेक्शन करते हैं तब हमे हमेशा फेज को राइट साइड और न्यूट्रल को लेफ्ट साइड में करना चाहिए यदि आप जिस भी कंपनी का सॉकेट लेंगे और उसके ऊपर ध्यान से पढ़ेंगे तो आपको राइट तरफ L और लेफ्ट साइड  N लिखा हुआ मिलेगा

यदि मेन सप्लाई प् काम कर रहे है तो दो mcb का इस्तेमाल जरूर करे  पहला को फेज के साथ जोड़ें और दूसरे को न्यूट्रल के साथ कनेक्ट करे । मान लीजिये की आप एक ही mcb के प्रयोग कर रहे

उसको फेज में कनेक्ट कर दिए तो ऐसे में जब फेज के तरफ शार्ट होगा तभी mcb वर्क करेगा यदि किसी कारण वश न्यूट्रल सेक्शन में कोई भी खराबी आयी तो mcb नहीं गिरेगा

extension board connection electric device kitne watt ka hota hai 

how to connect inverter in house wiring in hindi

यदि आपको इस इलेक्ट्रीशियन के क्षेत्र में कोई जानकारी नहीं है तो भी कोई बात नहीं है वैसे भी हमारे आस पास electrician  मिलते भी नहीं और मिलेंगे भी तो वो ज्यादा चार्ज मांगते है इस कनेक्शन को करने के लिए इससे अच्छा है की बस थोड़े से स्टेप फॉलो करके आप भी इस कनेक्शन को कर सकते हैं ।

यदि आपके घर में inverter का कनेक्शन के लिए वायर को अलग से चारो तरफ बिछा दिया गया हैं या अपने जिससे wiring कराइ हैं उसने कोई अलग से इन्वर्टर को जोड़ने के लिए अलग से कोई बॉक्स इंस्टाल किया है तो आपका काम बहुत आसान हो गया यदि ऐसा नहीं है तो इसका वायरिंग जरूर करा ले ।

आपको एक जरुरी बात बता दूँ की इन्वर्टर को जब हम चार्ज में लगते हैं तब उसी समय यह न्यूट्रल को स्वीकार कर लेता है यानी की जब हम इससे अपने घर में कोई पंखा या लाइट जलाते हैं तब केवल इसके फेज को इस्तेमाल करते हैं न्यूट्रल को छोड़ देते हैं ।

inverter-ka-connection-kaise-karen-इन्वर्टर-कनेक्शन-डायग्राम-(Diagram)-1

ऊपर दिए हुए इमेज को देखेंगे तो आपको यह पता चलेगा की मैंने इनवर्टर के मेन तार के फेज को सॉकेट के राइट तरफ और उसके न्यूट्रल को लेफ्ट तरफ जोड़ दिया हैं  और इन्वर्टर के अंदर न्यूट्रल वायर सप्लाई साइड और मेन साइड दोनों तरफ एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं यानी की दोनों साइड के न्यूट्रल वायर एक ही होते हैं ।

इसलिए मैंने होम वायरिंग करते वक़्त इन्वर्टर के को कनेक्ट करते समय केवल एक तार (phase) का उपयोग किया है । यदि आपके भी घर में कोई इन्वर्टर तार निकला हुआ है तो इसी तरह जोड़ दे आपका इन्वर्टर वर्क करने लगेगा ।

1 switch and 1 socket connection water level circuit mcb and elcb differnce between 

how to connect inverter to mcb-(inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram))

यदि आप इन्वर्टर से mcb को कैसे कनेक्ट करे नहीं जानते हैं तो , मैं आपको बता दू की इसका connection  बहुत ही आसान हैं बस मेरे द्वारा बताएं गए टिप्स को अपनाये आप भी इसका कनेक्शन करना सिख जायेंगे ।

inverter-ka-connection-kaise-karen-इन्वर्टर-कनेक्शन-डायग्राम-(Diagram)-2

इसके कनेक्शन को करने के लिए जरा ऊपर इमेज में ध्यान दे तो मैं समझाता हूँ की मेन तार के फेज और न्यूट्रल को हम दो mcb एक में नुएट्राल और दूसरे में फेज को जोड़ेंगे फिर उसके बाद mcb के दूसरे सिरे से निकली वायर को फाइव पिन वाले बोर्ड सॉकेट में जोड़ेंगे । यदि आपको नहीं पता की mcb के बाद से स्विच बोर्ड में कैसे वायरिंग करे तो बहुत ही सिंपल है

स्विच के एक सिरे में mcb फेज तार को जोड़ें और उसके दूसरे छोर को फाइव पिन के राइट साइड में कनेक्ट करे फिर इसके बाद mcb सी निकले न्यूट्रल तार को डायरेक्ट फाइव पिन में जोड़ दे इसतरह से आपका इन्वर्टर mcb से कनेक्ट हो जायेगा

लेकिन यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है की यदि आपका इन्वर्टर 1500 va ( volt ampere ) से निचे हैं तो 6 ampere mcb का ही इस्तेमाल करे नहीं तो शार्ट – सर्किट के समय आपका mcb थोड़ा लेट से काम कर सकता हैं ।

500 watt bnane ka tarikatullu pump connection 200ah battery backup kya hai 

सवाल और जवाब -inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram)

Q – inverter kanekshan , inverter ka connection kaise karte hain , inverter ke connection kaise karen , inverter connection kaise karte hain , inverter ka connection , inverter wiring in hindi  , inverter kaise lagate hain , inverter ka connection kaise hota hai , इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम , इनवर्टर कनेक्शन , इनवर्टर की वायरिंग कैसे करें , इनवर्टर का कनेक्शन कैसे करें , इनवर्टर कनेक्शन कैसे करें , इन्वर्टर कनेक्शन , इन्वर्टर कनेक्शन कैसे करें 

A –  अब मैं आपको इसका एक सिंपल और बहुत आसान बेसिक डायग्राम  बतानेवाला हूँ जिससे आपको समझने में और भी आसानी होगी और साथ में इसका कनेक्शन इस तरह क्यों किया क्यों किया जाता है इसके बारे में भी बताऊंगा ।

इन्वर्टर-कनेक्शन-डायग्राम

सबसे पहले इन्वर्टर को बैटरी के साथ जोड़ ले क्योंकि ऐसा नहीं करने से इन्वर्टर किसी तरह का कोई भी इंडीकेट नहीं करेगा लेकिन किसी – किसी इन्वर्टर में यह बैटरी को सेंस करता है जिसके सिग्नल के रूप में उस इन्वर्टर के अंदर से एक बीप सुनाई देने लगती है इसलिए इससे अच्छा है की पहले बाटरी को इन्वर्टर के साथ जोड़ ले ।

जब आप नया इन्वर्टर खरीदते है तो उसके साथ मैं सप्लाई में कनेक्ट करने के लिए प्लग नहीं दिया जाता है और यह सुविधा भी किसी – किसी इन्वर्टर में दिया भी जाता है । यदि आपके इन्वर्टर में प्लग नहीं दिया गया है तो इसमें कोई परेशानी की बात नहीं है ।

आपको केवल इन्वर्टर के मैन वायर में ब्लैक और रेड वायर को चुनना है और ने प्लग में दाया तरफ रेड को जोड़े एवं बाया तरफ ब्लैक वायर को जोड़ दे लेकिन इससे पहले एक बात का ध्यान रखें की जिस बोर्ड में आप इसका कनेक्शन करेंगे

inverter connection in board-inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram)

उसको टेस्टर की मदद से न्यूट्रल और फेज का पता कर ले ( जिसमे टेस्टर जलेगी वह फेज और जिसमे नहीं जलेगी वह न्यूट्रल होगा ) यदि आपका बोर्ड का कनेक्शन उल्टा है तो आपको या तो बोर्ड को खोलकर उसको सीधा कर ले यानी की फेज को दाए तरफ और न्यूट्रल को बाए तरफ करे ,

यदि आपके लिए यह सम्भव नहीं है तो इमरजेंसी के लिए आप इन्वर्टर के रेड तार को बोर्ड के फेज के तरफ रखे और ब्लैक तार बोर्ड के न्यूट्रल के तरफ रख सकते है अब मैं इसके गलत कनेक्शन के नुक्सान बताता हूँ ।

जब आप कनेक्शन उल्टा करेंगे तब इस स्थिति में इन्वर्टर तो चार्ज होगा क्योंकि उसे फेज और न्यूट्रल दोनों मिलेगी लेकिन जब घर की बिजली चली जाएगी तब यह आपके घर को सप्लाई नहीं देगा क्योंकि इन्वर्टर से निकलने वाला न्यूट्रल आपके घरे में लगे सभी electric device को नहीं मिल पायेगी जिससे इन्वर्टर का सर्किट पूरा नहीं  होगा

अथार्त घर का कोई भी लाइट या पंखा काम नहीं करेगा इसलिए कनेक्शन उल्टा करने के बजाय इसके सही तरीका से कनेक्शन करे और जोड़ते वक़्त इसके फेज और न्यूट्रल का ध्यान जरूर करे नहीं तो बहुत से लोग कनेक्शन उल्टा करके यह समझते है की उनका इन्वर्टर खराब हो चूका है ।

जब आप इन्वर्टर खरीदते है उसके साथ एक एक्स्ट्रा फ्यूज भी दिया जाता है जिसका उपयोग मैन कनेक्शन में होता है इसलिए जब वह फ्यूज हाई वोल्टेज या किसी दूसरे कारण से खराब हो जाए तो उसी एम्पेयर का फ्यूज इस्तेमाल करने का कोशिस करे यदि उससे ज्यादा एम्पेयर का इस्तेमाल करेंगे तब आपका इन्वर्टर का ट्रांसफार्मर खराब हो सकता है ।

इन्वर्टर बैटरी कनेक्शन-inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram)

इन्वर्टर से हमे दो तरह के तार को जोड़ने होते है जिसमे पहला मैन लाइन का होता है जिसके बारे में मैँ बता चूका हूँ और दूसरा बैटरी में जोड़ना पड़ता है जिससे हमे लाइट के चले जाने पर बैटरी के द्वारा पुरे घर को सप्लाई मिलता है इसलिए इन्वर्टर और बाटरी को आपस में कैसे जोड़ा जाता है इसके बारे में नहीं पता है ।

तो मैँ आपको बता दू की सबसे पहले बैटरी के दोनों टर्मिनल पर ध्यान से और वहां positive और negative की पहचान कर ले यदि बैटरी के ऊपर कोई रेड कैप लगा है तो वह positive है और ब्लैक कैप है तो वह negative है ।

फिर इन्वर्टर से निकले दो तार जो red और black होंगे उसे उस बैटरी के साथ मैचिंग करके जोड़ना है यानी की red तार को बैटरी के positive ( red cap ) और black तार को बैटरी के negative ( black cap ) के तरफ जोड़ दे इस तरह आपका कनेक्शन पूरा हो जायेगा ।

लेकिन जोड़ते वक़्त यदि आप पहली बार यह कोशिस कर रहे है तो घबराये बिलकुल नहीं क्योंकि जैसे ही एक कनेक्शन को को जोड़ने के बाद दूसरा जोड़ेंगे तो आपको एक हल्का सा स्पार्क देखने को मिल सकता हैं इसलिए ऐसे में यह मत समझे की आपको बिजली के झटके लगेंगे क्योंकि बैटरी  12 वोल्टेज के होते है इसलिए उससे हमारे शरीर को करंट नहीं लगता है ।

बैटरी और इन्वर्टर का कनेक्शन करते समय एक बात का ध्यान जरूर रखें जब आप इन दौड़ने को आपस में जोड़ेंगे तब इन्वर्टर में लगे सारे लोड या फिर उसके मेन प्लग और सप्लाई को निकाल दे ।

how to disconnect inverter from mains supply
  • यदि अपने अपने घर में इन्वर्टर के कनेक्शन में कोई भी mcb का उपयोग नहीं किया हैं तो आप मेरे पहले वाले पॉइंट को पढ़ सकते हैं की कैसे मैंने wiring की है जिसमे मैंने इन्वर्टर को बंद करने के लिए एक अलग से switch का इस्तेमाल किया हैं जिसे आप बिलकुल साधारण तरीके से ऊपर कर दे आपका इन्वर्टर बंद हो जायेगा ।
  • इन्वर्टर को डिस्कोनेक्ट करने का दूसरा तरीका है की यदि अपने इन्वर्टर के लिए mcb लगाया है तो उस mcb को निचे की तरफ गिरा दे इस तरह से आपका inverter main supply से disconnect हो जायेगा ।

FAQs

मैं अपने घर में इन्वर्टर कैसे कनेक्ट करूं?

घर पर इन्वर्टर का कनेक्शन के वायर अलग निकाले जाते है उन्हें इन्वर्टर के आउटपुट के पॉजिटिव साइड में इन्सर्ट करे और इन्वर्टर के वायर को अपने मेन सप्लाई से जोड़ दे इस समय पॉजिटिव और नेगेटिव का ख्याल जरुर करे .

क्या मुझे इन्वर्टर पर पहले पॉजिटिव या नेगेटिव कनेक्ट करना चाहिए?

हाँ पॉजिटिव को पॉजिटिव साइड और नेगेटिव को नेगेटिव साइड ही जोड़े क्योंकि होम वायरिंग में सिर्फ एक ही इन्वर्टर के तार होते हैं और नेगेटिव आपके इन्वर्टर के मेन सप्लाई से लिया जाता हैं .

इन्वर्टर में कौन सा तार प्लस या माइनस होता है?

इन्वर्टर में लाल तार प्लस और ब्लैक तार माइनस होता हैं

क्या इन्वर्टर को बेडरूम में रखा जा सकता है?

हाँ लगा सकते हैं लेकिन ध्यान रहे की उसके आस पास कोई सामान ना हों

conclusion(inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram))

आपको मेरा यह आर्टिकल house wiring diagram with inverter connection  कैसा लगा मुझे कमेंट करके जरूर बताएं जिससे मुझे इस तरह के हेल्पफुल आर्टिकल आपके सामने लाने में काफी मदद मिलती हैं और किसी दूसरे सवाल को भी मुझे कमेंट के द्वारा पूछ सकते हैं जिसका जवाब मैं जल्दी देने की कोसिस करूँगा धन्यवाद ।

2 thoughts on “inverter ka connection kaise karen-इन्वर्टर कनेक्शन डायग्राम(Diagram)”

  1. आपका यह आर्टिकल मुझे बहुत ज्यादा बढ़िया लगा है ।
    और इससे बहुत कुछ जानने का चीज मिला है इस आर्टिकल में कुछ कुछ ऐसा भी था जिसके बारे में मुझे जानकारी नही थी।
    आपका बहुत बहुत धन्यवाद सर।

    Reply

Leave a comment