reliance stock और Jio प्लेटफार्म analysis

reliance stock और Jio प्लेटफार्म analysis 

reliance stock और Jio प्लेटफार्म analysis  reliance stock और Jio प्लेटफार्म analysisकी यदि हम इसके इतिहास के बारे में बात करे तो इस कंपनी की स्थापना

धीरूभाई अम्बानी और चम्पक लाल दमानी ने मिलकर  1960 में RELIANCE  COMMERCIAL CORPORATION के रूप में की थी।  इसके बाद 1965 में इन दोनों पार्टनर्स की सांझेदारी समाप्त हो गयी और धीरूभाई ने फर्म के पॉलिएस्टर बिज़नेस  को जारी रखा।

>  यदि हम उसकी शेयर होल्डिंग की बात करे तो ,RELIANCE SHARES की संख्या  लगभग 310 करोड़ हैं जिसमे 46.32 % हिस्सा प्रमोटर समूह और अम्बानी परिवार रखता हैं जबकि सेस 53.68% शेयर्स सार्वजनिक शेयर धारको के पास हैं जिसमे FII और कॉर्पोरेट निकाय भी शामिल हैं ।

Jio एक भारतीय टेलीकॉम कंपनी और reliance industries limited की सहायक कंपनी है। इसकी स्थापना 2019 में भारत के सबसे बड़े मोबाइल नेटवर्क ऑपरेटर Jio के रूप में की गयी ।8 may 2020 को Jio को बाजार पुंजकारन के द्वारा चौथी सबसे बड़ी भारतीय कंपनी बताया गया ।

अब 2021 में reliance  Jio Mart को लांच करने की तैयारी कर रही हैं जिसके पार्टनर के रूप में फेसबुक और माइक्रोसॉफ्ट के मालिक आदि भी शामिल हैं ।

> MAY 2020 में जिओ को एंटरप्राइज वैल्यू  5.15 ट्रिलियन होने का अनुमान बताया गया था और रिलायंस के अन्य सभी कंपनियों की तुलना में अधिक मूल्यवान बताया गया ।

 stock CHART (reliance stock और Jio प्लेटफार्म analysis)

> reliance stock analysis ONE डे चार्ट पर गौर करे तो हुमा पाएंगे की यह फ़ण्डामेंटली इतना स्ट्रांग है की CORONA जैसी महामारी में सारे स्टॉक धरासाई हो गए थे पूरा शेयर मार्किट अपने  6 साल पुराने स्तर को छू रहा था तब केवल reliance stock अपना नया हाई लगातार बनाते जा रहा था ।

गिरवाट तो इसमें भी आयी थी और इसकी वैल्यू  मार्च 2020 को 900 के पास गयी थी और अचानक वह से अपना ट्रेंड बदला और सितम्बर महीने में 2350 का हाई बनाया

जो आप समझ सकते हैं की यदि एक reliance stock  को मार्च महीने में buy करने से सितम्बर में 1450 रूपए का मुनाफा हो जाता तो आप समझ सकते है की कितना स्ट्रांग स्टॉक है ।

reliance-stock-jio-प्लेटफार्म-1

History  Of reliance industries (reliance stock और Jio प्लेटफार्म analysis)

>  इस कंपनी में 2018 के गड़ना के मुताबिक 29533 स्थाई कर्मचारी थे जिनमे 1521 महिलाये और 70 विकलांग कर्मचारी शामिल थे ।

> 1966 में इन्ही के द्वारा रेलाइन्स टेक्सटाइल इंजीनियर्स प्राइवेट लिमटेड  को महाराष्ट्र में शामिल किया गया था गुजरात के नरोदा में भी इसी वर्ष सिंथेटिक कपडे मिल की स्थापना की गयी और इस तरह से इसके नाम में बदलाव कर 1985 में  RELIANCE INDUSTRIES LIMTED कर दिया गया ।

> 1975 में  कंपनी ने अपने वस्त्रों के वयापार में विस्तार किया और VIMAL के बाद दूसरी सबसे बड़ी ब्रांड बन कर उभरी ।COMPANY ने स्टॉक मार्किट में अपनी पहली IPO 1977 में लेन की घोसना की । इसके बाद  महाराष्ट्र में पॉलिएस्टर बिज़नेस को विस्तार देने के लिए एक और कंपनी की स्थापना की गयी ।

> 1995/96 में रिलायंस कंपनी ने USA के साथ सयुंक्त वयापार के माध्यम से दूरसंचार उद्योग में परवेस किया और भारत में RELIANCE TELECOM PRIVATE LIMTED को बढ़ावा दिया।

> 1998/2000 में गुजरात में जामनगर में दुनिया की सबसे बड़ी रेफाइनरी का स्थापित किया गया ।

Leave a comment