pe ratio meaning in hindi-what is p/e ratio in hindi-pe ratio

pe ratio meaning in hindi – पि इ रेश्यो मीनिंग इन हिंदी 

दोस्तों मैं आज आपको शेयर  बाजार दे जुडी एक कैलकुलेशन के बारे में जानकारी देने वाला हूँ जिसका नाम pe ratio hindi है इसलिए शेयर के किसी स्टॉक के नजरिये से यह कैलकुलेशन बहु मायने रखता है । pe ratio का फुल फॉर्म – price earnings ratio होता है

 PE RATIO SHARE MARKET का  बहुत  हीमहतवपूर्ण  टॉपिक है इससे हमे  किसी भी शेयर का VALUATION के बारे में पता चलता है की उस PARTICULAR शेयर प्राइस मार्किट के भाव के मुक़ाबले क्या   चल रहा है।

यह  किसी भी शेयर को उसके सेक्टर KO मिलाकर  हम COMPARE करते है ताकि JAB हम जो शेयर में पैसा लगाए उसे खरीदने के लिए उसका PE RATIO  उसी के   सेक्टर के  मुक़ाबले कम होना चाहिए  तभी हम उस शेयर को खरीद कर मुनाफा कमा   सकते है। 

यहाँ पर हमे  ये ध्यान देना जरुरी है की सेक्टर का  pe ratio   मान लीजिये की किसी SHARE  का PE RATIO से  अधिक है और हमने उस शेयर को खरीद लिया तो ऐसे   ऐसे में हमे वो SHARE PROFIT  तो देगा लेकिन कम देगा। PE RATIO  किसी भी  SHARE KA आय KA  अनुपात कहा जाता है किसी भी शेयर को SELL करके उसमे हुए  PROFIT  को  EARNING PER SHARE कहते   है। EARNING PER SHARE में अब हम शेयर की किमत को जब भाग देंगे और जो            

 मूल्य हमारे सामने निकल कर आएगा उसे हम PE RATIO  कहते है हमे कोई भी SHARE BUY करते समय इन दोनों  यानि EARNING PER SHARE  और PE  RATIO  का विश्लेषण करना चाहिए इससे हमारा RISK 75 PERCENT कम हो  जाता  है  चलिए अब उदाहरण के द्वारा समझते है :-     

पि इ रेश्यो की पूरी जानकारी 

pe ratio explained in hindi  के लिए मान लीजिये कोई COMPANY  का SHARE को हमने एक SHARE  100  RUPAY में  ख़रीदा  और जैसे ही उसका भाव कुछ दिनों के बाद 110  रूपए हो गया तो हमने   SELL KAR DIYA तो हमे  10 RUPAY का PROFIT HO GAYA  ये  दस रूपए  हमारा EARNING PER SHARE कहलाएगा।

अब हमे PE RATIO को निकलना है तो  हम PROFIT HUE 10 RUPAY को SHARE के PRICE 110 रूपए से डिवाइडकर देंगे तो  11 रूपए  आ रहा है जो हमारा  PE  RATIO कहलाएगा। इस  प्रकार  हमने  PE RATIO  और  EARNING PER SHARE  को अच्छे से समझ लिया है।  

निवेश के लिए शेयर चुनते वक़्त  ज्यादा तर  निवेशक शेयर के PE RATIO को चेक करते  इससे उन्हें यह पता लगता है की जिस शेयर  निवेश करने जा रहे है वह शेयर कितना सस्ता  या महंगा है। 

 पीई रेशियो का महत्व- pe ratio meaning in hindi

शेयर का चुनाव करते समय  ज्यादातर निवेशक शेयर के पीई रेशियो पर नजर डालते  हैं।इससे उन्हें यह पता लगता है कि जिस शेयर में वे निवेश करने जा रहे हैं, वह अभी के समय में कितना सस्ता या महंगा है।

शेयर मार्किट के बारे में सलाह और सुझाव

मान लीजिए आगर आपने किसी फार्मा कंपनी के शेयरों में निवेश करने का फैसला किया है तो शेयर बाजार के फार्मा इंडेक्स के पीई को आप देख लें. इसके बाद उस पीई से उस फार्मा  कंपनी के शेयर के पीई की तुलना करें जिसमें आप निवेश करना चाहते हैं. इससे आपको पता चल जाएगा कि जिस कंपनी में आप निवेश करने जा रहे हैं, उसका शेयर महंगा  या सस्ता है।

industry pe ratio in hindi

आप एक ही industry या sector  की कई कंपनियों के pe ratio  की भी तुलना कर सकते हैं। ऐसा देखा गया है की अच्छी बुनियाद और ग्रोथ वाली कंपनियों के शेयरों का पीई काफी ज्यादा होता है। शेयर मार्किट एक्सपर्ट  मधुपम कृष्णा के मुताबिक, पीई रेशियो से निवेशक को किसी शेयर की कीमत में होने वाली बढ़ोतरी का अंदाजा भी लग जाता है लेकिन ज्यादा पीई रेशियो वाली कंपनी से आप छोटी अवधि में कई गुना रिटर्न की उम्मीद ना के बराबर कर सकते है ।

 पीई रेशियो बदलता रहता है

किसी कंपनी का पीई रेशियो फिक्स वैल्यू नहीं होता। यह हरदम बदलता रहता है। मान लीजिए किसी कंपनी का pe रेशियो आज 10 है।  इसका मतलब यह नहीं है कि यह हमेशा 10 ही  रहेगा। कंपनी के परफॉरमेंस और शेयर बाजार में उसके शेयर की प्राइस के मुताबिक यह रेशियो घाट या फिर बढ़ भी सकता है ।

कंपनी के अच्छा प्रॉफिट कमाने के पश्चात उसके शेयरों की डिमांड बढ़ती है। इससे उसका पीई रेशियो भी बढ़ जाता है। इसी तरह अगर किसी कंपनी को नुकसान हुआ है तो इसके पीई रेशियो घटने लगता है ।

निष्कर्ष

उम्मीद  है आपको मेरा यह आर्टिकल   p/e ratio meaning in hindi या price earnings ratio meaning in hindi बहुत पसंद आये होगा जिसमे मैंने इसके शेयर मार्किट से क्या सम्बन्ध है , इसका महत्व , उपयोग आदि के बारे में बता दिया है । समझने में अभी कोई परेशानी है तो हमे कमेंट करे धन्यवाद ।                                                                                                                                                                                                             

Leave a comment